भारत में बढ़ा डिजिटल श्रद्धांजलि का क्रेज, अब इस तरह करें पूर्वजों को याद

नई दिल्ली : हम अपने पूर्वजों व दिवंगत रिश्तेदारों का स्मरण करने के लिए उनके समाधि स्थलों पर जाय करते हैं या अखबारों में शोक संदेश देते हैं। आधुनिक युग में अब न केवल डिजिटली उन्हें याद कर सकेंगे, बल्कि अपने परिजनों का एक डिजिटल फैमिली ट्री भी तैयार कर सकते हैं। गुजरात के विवेक व्यास और विमल पोपट द्वारा आरम्भ किया गया श्रद्धांजलि प्लेटफॉर्म अपने आपमें एक अद्भुत मंच है।

यह देश का पहला जीवन वृत्तांत पोर्टल है, जहां आप अपने पूर्वजों, परिजनों का स्मरण कर सकते हैं। उनसे जुड़ी यादों को तस्वीरों के माध्यम से साझा कर सकते हैं। एक बार ऑनलाइन अकाउंट बन जाने पर आप अपने रिश्तेदारों को प्रति वर्ष दिवंगत की पुण्यतिथि पर एक रिमाइंडर मैसेज भी भेज सकते हैं, जिससे कि वे अपने मैसेज को पोस्ट कर सकें।

विवेक के मुताबिक, पोर्टल का आगाज़ एक दिलचस्प कहानी के साथ हुआ है। वे बताते हैं, ‘2010-11 में एक दिन हम सब राजकोट में सड़क किनारे की दुकान पर चाय-समोसे खा रहे थे। दुकानदार ने जिस अखबार में हमें समोसे दिए थे, उसमें लोगों के शोक संदेश छपे हुए थे। हमें यह अच्छा नहीं लगा। सोचा कि कैसे लोगों की यादें मात्र कुछ घंटों में सिमट कर रह हैं और अखबार रद्दी बन जाता है। हमने इसके विकल्प के बारे में विचार करना शुरू किया, जिससे यादों को हमेशा के लिए सहेजा जा सके।'

खबरें और भी:-

आम्रपाली-निरहुआ पर चढ़ा होली का खुमार, जबरदस्त वायरल हो रहा रंग-बिरंगा वीडियो

यहाँ जानिए होली और होलिका दहन का शुभ मुहूर्त

होली पर धन की कमी दूर करने के लिए जरूर करें यह उपाय

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -