रोबोट पर इंसानी उत्पीड़न का आरोप

सैनफ्रांसिस्को। सैनफ्रांसिस्को के क्षेत्र में रोबोट के माध्यम से सुरक्षा की जा रही थी। इस रोबोट को द सैन फ्रांसिस्को सासाइटी फाॅर द प्रिवेंशन आॅफ क्रूएल्टी टू एनिमल संस्था के परिसर और आसपास के क्षेत्र में सुरक्षा के लिए, तैनात किया गया था। मगर अब इस रोबोट पर ही उत्पीड़न का आरोप लगा है। इसकी पहचान रोबोट के - 9 के तौर पर हुई है। रोबोट पर आरोप लगने के कारण, रोबोट से काम नहीं लिया जा रहा है।

मिली जानकारी के अनुसार, रोबोट सड़क किनारे गश्त करने के साथ, उन लोगों को टेंट लगाने से रोक रहा था जो कि, बेघर हो गए थे। इसके कारण, कई लोगों का जीवन प्रभावित हुआ। द सैन फ्रांसिस्को सोसाइटी फाॅर द प्रिवेंशन आॅफ क्रूएल्टी टू एनिमल की अध्यक्ष जेनिफर स्कारलेट ने कहा कि, रोबोट ने जान बूझकर बेघर लोगों को परेशान नहीं किया। स्कारलेट के मुताबिक, लोगों ने रोबोट को बांधा, उसके साथ तोड़फोड़ की और, उसके सेंसर को ही फैंक दिया।

रोबोट निर्माण करने वाली कंपनी, नाइटसकूप के अनुसार, इस मामले में गलत जानकारियां प्रसारित की गई हैं, जिसमें कहा गया है कि, रोबोट बेघर लोगों को हटाने हेतु लाया गया था। इसका उद्देश्य, केवल उनकी ग्राहक संस्था की सुरक्षा को बढ़ाना था। हालांकि, रोबोट से सुरक्षा उपाय को बेहद हिंसक भी बताया जाता है।

वर्ष 2015 में जर्मनी में एक कार कंपनी, फोक्सवैगन के प्लांट में रोबोट की कार्यप्रणाली के चलते, रोबोट ने एक कर्मचारी को ही मेटल प्लेट में डाल दिया था। ऐसे में कर्मचारी की मौत हो गई थी। गुरूग्राम में, मारूति के प्लांट में ही मजदूर रामजी, रोबोट के शिकार हुए थे और फिर रामजी की मौत हो गई थी।

रोबोट बने प्रियांक और हिना, घरवालों ने छुड़ाया उनका पसीना

टास्क में हुआ खूब एन्जॉयमेंट, हितेन ने किया अर्शी को प्रेग्नेंट

एक रोबोट जो 2020 में लड़ेगा चुनाव

GES : मोदी और इवांका का स्वागत करेगा रोबोट 'मित्र'

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -