क्या वाकई सरकारी यूनियनों के बस चालकों को मिली है निर्धारित राशि ?

उत्तर प्रदेश में हरियाणा परिवहन विभाग ने मजदूरों को छोड़ने गई बसों के चालकों को डीजल की राशि का भुगतान कर दिया है.विभाग की जांच के बाद रोडवेज यूनियनों के चालकों को राशि न मिलने के दावे गलत निकले हैं.14 डिपो की 635 बसें मार्च महीने में उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में गई थीं.

मुंबई में IPS अफसर को हुआ कोरोना, स्टाफ के 15 कर्मचारी क्वारंटाइन

आपकी जानकारी के लिए बता दे​ कि इनमें से चार डिपो सोनीपत, रोहतक व झज्जर इत्यादि के चालकों ने गलती से अपनी जेब से पैसे खर्च कर डीजल डलवा लिया, जबकि उत्तर प्रदेश सरकार ने डीजल डलवाने के लिए पेट्रोल पंप तय किए हुए थे.रोडवेज यूनियनों ने आरोप लगाया था कि चालकों को डीजल राशि का भुगतान नहीं हो रहा.जिसका परिवहन निदेशक डॉ. वीरेंद्र दहिया ने कड़ा संज्ञान लेते हुए पड़ताल करवाई.जिसमें पाया गया कि राशि दी जा चुकी है.वही, निदेशक ने रोडवेज यूनियनों को लताड़ लगाई है.दहिया ने बताया कि यूनियन नेताओं ने गलत आंकड़े पेश किए हैं.आपदा के समय भी यूनियन नेता राजनीति कर रहे हैं.हरियाणा परिवहन विभाग लगभग साढ़े तीन लाख रुपये की अदायगी चालकों को कर चुका है.सोनीपत डिपो में सबसे अधिक 2.86 लाख रुपये का भुगतान हुआ है.अन्य तीन डिपो में 15 से 20 हजार रुपये के बीच पेमेंट की गई है.

पंजाब : कोरोना संक्रमण से राज्य में 24 लोगों ने गवाई जान, इतने मरीज ठीक होकर लौटे घर

अपने बयान में परिवहन निदेशक ने बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार चालकों को 1000-1000 रुपये बोनस देगी.जिसकी प्रक्त्रिस्या अंतिम चरण में है.हरियाणा परिवहन विभाग को डीजल राशि के बिलों की अदायगी भी उत्तर प्रदेश सरकार ने करनी है.बोनस भी जल्द दे दिया जाएगा.

भारत में अभी कोरोना ने दिखाया है ट्रेलर, इस महीने में होगी भारी तबाही - स्टडी

राजस्थान : इस शहर में कोरोना संक्रमण से पांच लोगों ने गवाई जान

पंजाब : इस शहर में अभी भी पसरा हुआ है सन्नाटा

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -