धूमल का बड़ा बयान, कहा- "देश व समाज पर गर्व न करने वालों का मिट जाता है...."

नई दिल्ली: पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल ने बोला है कि जो देश, समाज और कौम अपने इतिहास को नहीं जानते तथा उस पर गर्व नहीं करते, उनका अस्तित्व अकसर मिट जाता है। धूमल रविवार को हमीरपुर के निकट ठाकुर जगदेव चंद ठाकुर स्मृति शोध संस्थान नेरी में आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत 'भारतीय स्वाधीनता आंदोलन: वृत्तांत, स्मृत्तियां एवं नेपथ्य-नायक' विषय पर आयोजित राष्ट्रीय परिसंवाद एवं वेबिनार के समापन सत्र को संबोधित कर रहे थे।

यह 2 दिवसीय परिसंवाद भारतीय इतिहास अनुसंधान परिषद और केंद्रीय महाविद्यालय धर्मशाला तथा हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला के इतिहास मंत्रालय के सहयोग से आयोजन किया गया था। इस अवसर पर पूर्व सीएम ने बोला है कि इतिहास का महत्व हमें आज पता चल चुका है, लेकिन ठाकुर जगदेव चंद ठाकुर स्मृति शोध संस्थान के संस्थापक ठाकुर राम सिंह ने दशकों पहले यह समझ चुके थे। इसलिए उन्होंने भारतीय इतिहास के संकलन पर विशेष बल प्रदान किया था। अंग्रेजों के शासनकाल में भारतीय इतिहास को एक सोची-समझी रणनीति एवं साजिश के अंतर्गत विकृत किया गया था, जिससे हमें राजनीतिक और आर्थिक दृष्टि से ही नहीं, बल्कि मानसिक और मनोवैज्ञानिक रूप से गुलाम बनाने की कोशिश की गई।

योग, वेद, आयुर्वेद भारतीय सभ्‍यता की देन: उन्होंने बोला है कि योग, वेद, आयुर्वेद और अन्य प्राचीन परंपराएं एवं विधाएं भारतीय सभ्यता की ही देन है। इंडिया के स्वतंत्रता संग्राम में लाखों ऐसे लोगों का भी योगदान मिल रहा है, जिनके बारे में हम कुछ भी नहीं जानते हैं। किसी भी कालखंड का इतिहास उस वक़्त का एक आइना होता है। इसलिए सही इतिहास का लेखन अति जरुरी है। नेरी में आयोजित दो दिवसीय परिसंवाद में शिरकत करने वाले विद्वानों के शोधपत्रों से इंडियन हिस्ट्री के कई नेपथ्य नायकों की गौरव गाथाएं सामने आने वाली है और नई पीढ़ी को इनसे प्रेरणा मिलेगी। वर्तमान दौर की चर्चा करते हुए धूमल ने बोला है कि आज हमारा देश सशक्त हो रहा है तथा अमेरिका जैसी महाशक्तियां भी भारत पर गर्व कर रहा हैं। उन्होंने प्रत्येक नागरिक से राष्ट्रवादी शक्तियों का साथ देने का संकल्प लेने की मांग भी की है।

हवा से फैल रहा ओमिक्रॉन, विशेषज्ञों ने किया दावा

सशस्त्र सेना झंडा दिवस आज, सीएम योगी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने दी बधाई

नाला न बनने पर महिला ने ले ली भू-समाधी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -