इस दिन है देवशयनी एकादशी, नहीं होंगे कोई मांगलिक कार्य

Jun 29 2020 04:20 PM
इस दिन है देवशयनी एकादशी, नहीं होंगे कोई मांगलिक कार्य

आप सभी को बता दें कि हिन्दू धर्म में आषाढ़ मास की देवशयनी एकादशी के बाद से देवउठनी तक सभी शुभ मंगल कार्य होने बंद कर दिए जाते हैं. अब ऐसे में इस साल देवशयनी एकादशी आने वाले 1 जुलाई को पड़ने वाली है. वहीं अगर हम पुराणों को माने तो पुराणों के मुताबिक देवशयनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु 4 महीने के लिए विश्राम करने क्षीर सागर में चले जाते है. केवल इतना ही नहीं बल्कि 4 महीने तक भगवान विष्णु के निद्रा की मुद्रा में रहने के कारण विवाह,उपनयन संस्कार, गृहप्रवेश जैसे मांगलिक कार्य होने बंद हो जाते हैं. आपको बता दें कि यह सब एक कथा में बताया गया है.

उसी कथा के अनुसार आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष में एकादशी की तिथि को शंखासुर दैत्य मारा गया था तब से इस दिन से भगवान चार महीने तक क्षीर सागर में सोने के लिए चले जाते हैं. सूर्य, चंद्रमा प्रकृति का तेजस तत्व कम हो जाता है, इस कारण से ऐसा भी कहते है कि देवशयन हो गया है. आपको बता दें कि इन दिनों में साधु भी भ्रमण करना बंद कर देते हैं और वह एक जगह पर बैठकर प्रभु की साधना करने लगते हैं. उसके बाद चार महीने बाद सूर्य के तुला राशि में प्रवेश करता है और फिर भगवान विष्णु एक बार फिर सृष्टि के संचालन में लग जाते हैं.

इस बार देवशयनी एकादशी की पूजा विधि - ध्यान रहे कि आप एकादशी की पूजा की एक रात पहले दशमी से ही नमक का सेवन बंद कर दें. अब आप पूजा वाले दिन नहा-धोकर भगवान विष्णु की मूर्ति को पंचामृत से स्नान करवा ले. इसके बाद धूप-दीप फूल आदि के साथ भगवान के मंत्र का उच्चारण कर सकते हैं क्योंकि ऐसा करने से ही आपको लाभ होगा.

36 शुभ योगों के साथ आ रहा है सावन का पवित्र महीना

यहाँ जानिए साल 2020 के सावन सोमवार व्रत की तिथियां

6 जुलाई से शुरू होगा सावन का महीना, जानिए धार्मिक महत्व