श्री महाकालेश्वर की भस्मारती में उमड़े श्रद्धालुओं ने तोड़ा भस्मारती द्वार

उज्जैन : उज्जैन में इन दिनों सिंहस्थ की धूम हैं। शनिवार अर्थात् वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की पौर्णिमा पर सिंहस्थ का अंतिम और तीसरा शाही स्नान आयोजित हो रहा है। ऐसे में शहर के पौराणिक और प्रमुख मंदिरों में खासी भीड़ है। ऐसे में बारह ज्योर्तिलिंग में से एक श्री महाकालेश्वर ज्योर्तिलिंग में भी श्रद्धालुओं का तांता लगा है। श्रद्धालुओं का सैलाब सिंहस्थ में दो माह तक बना रहा। संभावना है कि आने वाले कुछ दिनों तक श्रद्धालु उज्जैन में जुटे रहेंगे।

मगर शुक्रवार को श्री महाकालेश्वर के आंगन में श्रद्धालुओं की आपाधापी हड़कंप मच गया। हालात ये रहे कि श्रद्धालु भस्मारती के लिए लगने वाली कतार की रैलिंग पार कर एटीएम परिसर में जा पहुंचे। ऐसे में भगदड़ की स्थिति निर्मित हो गई। कुछ श्रद्धालु भीड़ में ही दब गए। लोग जैसे - तैसे खुद को बचा पाए। इस दौरान सशुल्क दर्शन पासधारी और बिना पास वाले दर्शनार्थी एक ही कतार में आने लगे। कर्मचारियों ने भस्मारती के प्रवेश द्वार पर ताला लगा दिया।

दूसरी ओर ऑनलाईन मोड से श्रद्धालुओं को सशुल्क पास जारी होते रहे। दरअसल प्रबंध समिति के वे कर्मचारी जो भस्मारती क ऑनलाईन मोड पर मौजूद रहते हैं उन्होंने सशुल्क दर्शन बंद होने के बाद भी पास जारी कर दिए और ऐसे में लोगों से 250 रूपए वसूले जाते रहे। सैकडों लोगों ने पास लिए। मगर जब वे दर्शन लाईन के लिए गए तो गेट पर ताला देखकर मायूस हो गए। उनका आक्रोश फूट गया और वे मंदिर में प्रवेश करने की मांग करते हुए गेट तोड़कर अंदर घुसने लगे।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -