रास्तों पर उल्लास का जाम, घाटों पर श्रद्धा का पैगाम

उज्जैन। मध्यप्रदेश के धार्मिक पर्यटन नगर और पांचवे बड़े शहर के तौर पर अपनी पहचान बनाते उज्जैन में इन दिनों हर रास्ते मोक्षदायिनी शिप्रा के घाटों की ओर जा रहे हैं। अब लोगों को रास्ता पूछना नहीं पड़ता। वाहनों की लंबी कतारें और पैदल चलते लोग अपने आप ही साधु - संतों के डेरों का पता बता देते हैं। लोगों का हुजूम सिंहस्थ के  पर्व स्नान अर्थात् वैशाख शुक्ल नवमी पर श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ा।

दरअसल रविवार के दिन यह अवसर होने के कारण श्रद्धालुओं का दबाव अधिक रहा। यूं भी बड़े पैमाने पर श्रद्धालु शनिवार - रविवार को शहर में उमड़े। शहर की उत्तरवाहिनी मां शिप्रा के रामघाट, दत्तअखाड़ा घाट, गउघाट, मंगलनाथ, त्रिवेणी घाट पर लोगों ने आस्था की डुबकी लगाई।

माना जा रहा है कि उज्जैन में 17 मई को मोहिनी एकादशी पर, 19 मई को प्रदोष पर्व पर, 20 मई को नरसिंह जयंती पर और 21 मई के दिन होने वाले शाही स्नान के अवसर पर श्रद्धालुओं का खासा जमावड़ा लग सकता है। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -