चाइनीज एप पर बैन के बाद भी भारत में सबसे अधिक हुई इस स्मार्टफोन की बिक्री

चाइनीज एप पर बैन के बाद भी भारत में सबसे अधिक हुई इस स्मार्टफोन की बिक्री

इंडिया दुनिया का सबसे बड़ा स्मार्टफ़ोन मार्केट है.  जंहा इस बात का पता चला है कि भारतीय यूजर्स कौन से ब्रैंड के स्मार्टफोन्स खरीदना पसंद करते हैं. इस सूचीं में टॉप पोजीशन्स पर चाइनीज ब्रैंड्स हैं और जिनमे सबसे बड़ा मार्केट शेयर शाओमी का है. रिपोर्ट के अनुसार इस वर्ष की तीसरी तिमाही में भी शाओमी ने सबसे अधिक स्मार्टफोन्स बेचे और करीब 1 करोड़ 30 लाख शाओमी स्मार्टफोन्स अगस्त से अक्टूबर के मध्य बेचे गए. स्मार्टफोन मार्केट से जुड़ा डेटा Canalys की ओर से साझा किया गया है.

रियलमी ने की सबसे ज्यादा ग्रोथ: टॉप-3 स्मार्टफोन ब्रैंड्स में VIVO भी शामिल हो गया है कि और इस साल तीसरी तिमाही में तकरीबन 88 लाख डिवाइसेज की सेल के साथ 17.6 प्रतिशत मार्केट साझा पर कंपनी ने कब्जा किया. जिसके अतिरिक्त चौथी पोजीशन पर रियलमी रहा, जिसका मार्केट शेयर बीते वर्ष के 15.3 फीसद के मुकाबले बढ़कर 17.4 प्रतिशत हो गया है. कंपनी की ग्रोथ करीब 23 प्रतिशत रही, जो मार्केट में मौजूद ब्रैंड्स में सबसे अधिक है.

दूसरी पोजीशन पर सैमसंग: शाओमी का मार्केट साझा जुलाई से अक्टूबर वाली तिमाही में 26.1 प्रतिशत रहा है, जो बेटे वर्ष के मुकाबले 1.1 प्रतिशत ज्यादा है. जिसके अतिरिक्त दूसरी पोजीशन पर साउथ कोरिया की स्मार्टफोन कंपनी सैमसंग बनी हुई है, जिसने इस बीच तकरीबन 1 करोड़ डिवाइसेज की सेल की और 20.4 प्रतिशत मार्केट शेयर पर कब्जा किया. हालांकि, बीते वर्ष के मुकाबले कंपनी का मार्केट साझा -0.2 प्रतिशत कम हुआ है.

पांचवें स्थान पर ओप्पो: 5वीं पोजीशन पर OPPO रहा और करीब 61 लाख स्मार्टफोन्स कंपनी ने इस दौरान डिलीवर किए. OPPO  का मार्केट साझा करीब 12.1 प्रतिशत रहा. इस तरह केवल पांच स्मार्टफोन मैन्युफैक्चरर्स ही करीब 93.6 प्रतिशत इंडियन मार्केट कंट्रोल की जा रही है. खास बात यह है कि ऐपल iPhones की मांग भी भारत में बढ़ रही है. इस तिमाही में ऐपल ने करीब 8 लाख iPhones भारत में बेचे. कैलिफोर्निया की कंपनी को प्रमोशनल ऑफर्स और भारत में ऑनलाइन स्टोर खोलने का फायदा मिला है.

भारत में Vodafone Idea फाउंडेशन ने लॉन्च किया MyAmber ऐप, मिलेगी ये बेहतरीन सुविधाएं

Paytm Mall में अपने पसंदीदा स्मार्टफोन को लाए घर, मिल रहा है भारी डिस्काउंट

तो क्या अगले साल जून तक लॉन्‍च होगी कोरोना वायरस की स्‍वदेशी वैक्‍सीन?