आखिरकार दिल्ली पुलिस को मिली सफलता, 11 महीने बाद सुलझी हेड कांस्टेबल की मर्डर मिस्ट्री

Aug 05 2019 05:46 PM
आखिरकार दिल्ली पुलिस को मिली सफलता, 11 महीने बाद सुलझी हेड कांस्टेबल की मर्डर मिस्ट्री

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने आखिरकार 11 माह के बाद हेड कॉन्स्टेबल की मर्डर मिस्ट्री को सुलझा लिया है. हेड कॉन्स्टेबल राम अवतार मीणा की हत्या के केस में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि इनका तीसरा साथी अब भी फरार चल रहा है. दोनों आरोपी इरशाद ओर चिंदरपाल की गिरफ्तारी राजस्थान के अलवर जिले से की गई है.

डीसीपी चिन्मय बिस्वाल ने बताया है कि इसी वर्ष मार्च में पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए एसआईटी टीम गठित की थी. इसके साथ ही आरोपियों पर एक लाख के इनाम का ऐलान भी कर रखा था. इस दौरान पुलिस ने 200 से भी अधिक लोगों से पूछताछ की. पुलिस की मानें तो, 12 सितंबर, 2018 को हेड कॉन्स्टेबल राम अवतार मीणा को मौत के घाट उतारने के बाद तीनों बदमाश अलवर भाग गए थे. किन्तु, जब आरोपियों ने टीवी पर खबर देखी तो ये अलवर से भी फरार हो गए. आरोपी अजेमर से लेकर राजस्थान के विभिन्न जिले में छुपते रहे, वहीं पुलिस रात-दिन आरोपियों की खोज करती रही.

आपको बता दें कि बाइक चोरों ने कॉन्स्टेबल राम अवतार मीणा की हत्या की थी. ये तीन लड़के बाइक चोरी करने का प्रयास कर रहे थे. तभी राम अवतार मीणा ने इन्हें रोकने का प्रयास किया. जिस पर बदमाशों ने राम अवतार मीणा पर गोली चला दी. अस्पताल ले जाते समय हेड कांस्टेबल की मौत हो गई थी.  फिलहाल पुलिस इनके तीसरे साथी की तलाश में लगी हुई है.

पेट्रोल के मूल्य में आई कमी,जाने नई कीमत

वाहन उद्योग में काम कर रहे दो लाख लोगों से छीनी नौकरी

काहिरा: अस्पताल के सामने हुए धमाके में गई 17 लोगों की जान, 32 घायल