दयनीय स्थिति में दिल्ली-NCR के एक लाख वकील, पीएम मोदी को पत्र लिखकर मांगी मदद

Jul 12 2020 05:54 PM
दयनीय स्थिति में दिल्ली-NCR के एक लाख वकील, पीएम मोदी को पत्र लिखकर मांगी मदद

नई दिल्ली: वैश्विक महामारी कोरोना वायरस की वजह से कोर्ट के बंद होने से अधिकतर वकील भारी वित्तीय संकट में आ गए हैं। बार काउंसिल ऑफ दिल्ली ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर कंटिंजेंसी फंड या पीएम केयर फंड से वकीलों के लिए 500 करोड़ रुपये की मदद की मांग की है। 

बार काउंसिल ऑफ दिल्ली के चेयरमैन केसी मित्तल ने पीएम मोदी को लिखे गए पत्र में कहा है कि दिल्ली और NCR में एक लाख से अधिक वकील हैं। कोरोना महामारी फैलने के बाद उनकी आर्थिक स्थिति बेहद ख़राब हो गई है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि वकील अपनी बुनियादी जरूरतों को भी पूरा नहीं कर पा रहे हैं, क्योंकि कोरोना की वजह से अदालत बंद है और वो घर से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। वकील असहाय हो चुके हैं। नैशनल डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी ने कोरोना वायरस को आपदा घोषित किया है। कोरोना महामारी की वजह से कोर्ट बंद कर दिए गए हैं। इस वजह से वकीलों की आमदनी भी बंद है।

पत्र में आगे लिखा गया है कि ये स्थिति कब तक चलेगी इसका पता नहीं है और वकील लगातार मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। वकीलों की स्थिति चिंताजनक है। 4 महीने से बगैर काम किए वो घर में बंद हैं। उन्हें आर्थिक मदद के लिए बार काउंसिल ऑफ दिल्ली ने 8 करोड़ रुपये दिए हैं। किन्तु वह नाकाफी है। वकीलों को इस दयनीय स्थिति के साथ नहीं छोड़ा जा सकता है।

डीज़ल की कीमतों में फिर लगी आग, पेट्रोल के दाम स्थिर

जुए में हार गया पैसा तो, जीवन की चढ़ा दी बलि

इंदौर में कोरोना ने मचाया बवाल, लॉकडाउन से पहले मिले भर-भरकर संक्रमित मरीज