लॉकडाउन के बीच आई बड़ी राहतभरी खबर, सुनकर चेहरे पर आएगी मुस्कान

इस समय कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन लगा हुआ है और लोगों के घर से निकलने पर सख्त पाबंदी है. वहीं दिल्ली महिला आयोग की 24 घंटे सेवा जारी है और इस दौरान रोजाना 1400 के करीब फोन कॉल रिसीव किए जा रहे हैं. हाल ही में मिली जानकारी के तहत महिला पंचायत की टीमें भी मदद कर रही हैं और इसके जरिए कई महिलाओं को राशन, जरूरत का सामान पहुंचाया जा रहा है. वहीं लॉकडाउन बढ़कर अब 3 मई तक हो चुका है और लॉकडाउन के चलते काफी कुछ बदल गया है, लोग घरों में कैद हैं, सड़कें पूरी तरह खाली हैं. अब एक बड़ी राहतभरी खबर सामने आई है. जी दरअसल इस लॉकडाउन के दौरान राजधानी दिल्ली में महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराध में कमी आई है. जो एक अच्छा संकेत है.

जी हाँ, हाल ही में मिली जानकारी के मुताबिक दिल्ली महिला आयोग की हेल्पलाइन 181 को औसतन प्रतिदिन 1500-1800 कॉल मिलती हैं. वहीं लॉकडाउन के दौरान, आयोग को 26 मार्च से 31 मार्च के बीच अत्यधिक कॉल मात्रा प्राप्त हुईं और आयोग को 27 मार्च को 4,341 कॉल, 28 मार्च को 5522 कॉल और 29 और 30 मार्च को 3,000 से अधिक कॉल मिलीं.

इसी के साथ 1 अप्रैल के बाद, आयोग को प्रति दिन लगभग 1300 से 1500 कॉल प्राप्त हो रहे हैं लेकिन इन फोन कॉल में सबसे ज्यादा मामले लॉकडाउन के कन्फ्यूज़न को लेकर हैं ना कि किसी अपराध को लेकर. इस समय घरेलू हिंसा में भी कमी हो चली है और इसी कारण इसे राहतभरी खबर बताया जा रहा है. दिल्ली महिला आयोग के मुताबिक, 12 से 24 मार्च के बीच सेक्सुअल असॉल्ट, छेड़छाड़ से जुड़ी 6 शिकायतें आती थीं लेकिन अब ये घटकर सिर्फ 2-3 पर ही रह गई हैं. इसी के साथ बात करें रेप के केस की तो रिपोर्ट होने वाले केस में करीब 71 फीसदी की कमी आई है. वहीं किडनैपिंग के मामलों में भी 90 फीसदी की कमी दर्ज की है.

एक रात में 80 बार कॉल कर कांस्टेबल ने की खुदकुशी

लॉकडाउन के बीच अपराधों को मिल रही हवा, सामने आया लूटपात का नया मामला

धर्म पूछने के बाद कर दी सब्जीवाले की पिटाई

Most Popular

- Sponsored Advert -