उन्नाव केस में CBI का बयान अहंम, जांच में यह बातें हुई स्पष्ट

उन्नाव केस में CBI का बयान अहंम, जांच में यह बातें हुई स्पष्ट

बुधवार को उन्नाव सामूहिक दुष्कर्म मामले में दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में सुनवाई हुई. कोर्ट में केंद्रीय जांच एजेंसी ने अपने बयान में कहा कि ने उन्नान सामूहिक दुष्कर्म मामले में हमने जांच में पाया कि पीड़िता के आरोप बिल्कुल सही हैं. कोर्ट में सीबीआइ ने जांच के आधार पर कहा कि 4 जून, 2017 को उसके साथ विधायक कुलदीप सेंगर ने शशि सिंह के साथ साजिश कर पीड़िता का सामूहिक दुष्कर्म किया था. आइए जानते है पूरी जानकारी विस्तार से 

पुलिसकर्मियों ने बनाया महिला-पुरुष का आपत्तिजनक वीडियो और कर दिया वायरल

अपनी बात रखते हुए सीबीआइ ने यह भी बताया कि आरोपित शशि सिंह पीड़िता को नौकरी दिलाने के बाद यूपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के पास लेकर गया था. बुधवार को हुई सुनवाई के दौरान सीबीआइ ने दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में कहा कि उन्नाव सामूहिक दुष्कर्म मामले में हमने जांच में पाया कि पीड़िता के आरोप बिल्कुल सही हैं. उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया था. कोर्ट में सीबीआइ ने यह भी कहा कि आरोप तय करने के लिए काफी सबूत हैं. पीड़िता और उसकी मां ने सीआरपीसी 161 और 164 में पूरा बयान दिया. दुष्कर्म के मामले में कोई चश्मदीद नहीं चाहिए.

नहीं बन पाया पिता तो पत्नी ने ठुकराया, दुखी होकर बन गया किडनैपर

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि सीबीआइ ने कोर्ट में बयान दिया है कि कुलदीप सिंह सेंगर ने शशि सेंगर के साथ मिलकर सामूहिक दुष्कर्म की साजिश रची थी और फिर पूरी योजना के साथ 4 जून, 2017 को पीड़िता के साथ रात 8 बजे दुष्कर्म हुआ था. तब पीड़िता की उम्र 18 साल से कम थी. अपने साथ हुए सामूहिक दुष्कर्म की बात सबसे पहले पीड़िता ने अपनी चाची को बताई थी. 

पत्नी की हत्या कर हथियार लेकर थाने पहुंचा पति, कहा- 'गिरफ्तार कर लो...'

यहां जॉब के लिए लड़कियों को देना पड़ता है ऐसा टेस्ट..

रात को देवर और सास को दे दी नींद की गोलियां और बॉयफ्रेंड को बुला लिया घर...