अयोध्या में तो राम मंदिर ही बनेगा, मुस्लिम माने बात

विश्व हिन्दू परिषद ने विश्वास जताया है कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के निर्माण का फैसला उनके पक्ष में आएगा. साथ ही विहिप ने मुस्लिम समाज से यह भी आह्वान किया है कि वे अलग भूमि लेकर राममंदिर के निर्माण के कार्य को आगे बढ़ाये. और कहा कि इससे हिन्दू मुस्लिम के बीच एकता की एक नई मिशाल कायम हो जाएँगी. उन्होंने इसके साथ ही इस बात के भी संकेत दे दिए की मोदी सरकार के कार्यकाल में राम मंदिर का निर्माण शुरू हो जायेगा. साथ ही अगर न्यायालय के फैसले में कोई कमी होगी तो सरकार मिलकर कोई रास्ता निकालेगी.

वही विहिप की और से आगे कहा गया की सभी अदालतों से राम मंदिर के पक्ष में फैसले आये है. आगे उनकी और से कहा गया की इस मामले का राजनीती से कोई लेना देना नहीं है. और न ही बीजेपी इस बात का फायदा बिहार और उत्तरप्रदेश चुनावो में लेना चाहती है. वही इस बात पर बीजेपी नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी का कहना है की मस्जिद मुस्लिमो के नमाज अदा करने की जगह है. उसका आस्था से कोई लेना देना नहीं है. आपको बता दे की भातीय पुरातत्व विभाग ने भी यह निष्कर्ष दिया था की वहां पर एक बहुत बड़ा मंदिर परिसर था. और इलाहबाद उच्च न्यायालय ने भी इस तथ्य को स्वीकार किया है और इस स्थान को भगवान राम की जगह बताया है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -