रिपोर्ट: जहरीली हवा से देश में बढ़ रही मौतों की संख्या, पिछले साल इतने लाख लोगों ने गंवाई जान

Dec 07 2018 09:30 PM
रिपोर्ट: जहरीली हवा से देश में बढ़ रही मौतों की संख्या, पिछले साल इतने लाख लोगों ने गंवाई जान

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली पिछले कुछ सालों से जहरीली हवा की समस्या से जूझ रही है, दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का स्तर हर साल सर्दियों की शुरुआत में खतरनाक स्तर तक पहुंच जाता है. दिल्ली के साथ-साथ देश के कई अन्य मुख्य शहरों की हवा की गुणवत्ता तय किए गए मानकों से अधिक खराब है. ऐसे में हाल ही में हुए अध्ययन में जो खुलासे हुए हैं, वो चिंतित करने वाले हैं. शोध में खुलासा हुआ है कि वायु प्रदूषण के कारण पिछले वर्ष भारत में 10 लाख लोगों कि मौत हो गई, इनमें से 12,322 मौतें केवल दिल्ली में दर्ज की गईं. 

ट्राई सचिव का दावा, 2022 तक भारत में शुरू हो जायेगा 5जी

गुरुवार को लांसेट प्लेनेटरी हेल्थ जर्नल में प्रकाशित हुई इस शोध के खुलासे परेशानी में डालने वाले हैं, पिछले साल वायु प्रदूषण के कारण देश में 10 लोगों की मौत हो गई, जिसमें से 12,322 दिल्ली में हुई क्योंकि दिल्ली में पीएम 2.5 का स्तर सबसे अधिक रहा, वहीं इसके बाद दूसरे नंबर पर उत्तर प्रदेश और फिर बिहार, हरियाणा और राजस्थान का नंबर है. अध्ययन के अनुसार 6.7 लाख मौतें घर के बाहर वायु प्रदूषण की वजह से हुईं है, वहीं 4.8 लाख लोगों ने घर में वायु प्रदूषण के कारण काल के गाल में समां गए. 

बिना टैक्स निवेश करने का सबसे बेहतर उपाय है डाकघर की यह योजना

दिल्ली में हवा की गुणवत्ता इतनी खराब है कि पिछले वर्ष वायु प्रदूषण के कारण लोगों की औसत आयु 1.5 साल तक कम हो गई, शोध ने दावा किया कि भारत में लोगों की औसत उम्र  1.7 वर्ष अधिक होती अगर वायु प्रदूषण न्यूनतम स्तर से कम होता. आपको बता दें कि इससे पहले यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो के एनर्जी पॉलिसी इंस्टीट्यूट (EPIC) की रिपोर्ट में भी खुलासा किया गया था कि 2016 में दिल्ली में सबसे ज्यादा प्रदूषित हवा थी,  जिससे व्यक्ति की औसत आयु 10 साल तक कम हो चुकी है.

खबरें और भी:-

शेयर मार्केट : भारी गिरावट के साथ बंद हुआ बाजार, जानिये इस गिरावट की क्या है वजह

सोना-चांदी : चौथे दिन भी बढ़े दाम, जाने आज के भाव

म्यांमार तक गैस पाइपलाइन नेटवर्क का विस्तार करेगी सरकार, पहले चरण में ही 70,000 करोड़ का खर्च