विश्वास मामले पर महिला आयोग की प्रेसवार्ता में हंगामा

May 06 2015 01:14 AM
विश्वास मामले पर महिला आयोग की प्रेसवार्ता में हंगामा

नई दिल्ली : दिल्ली में सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (आप) के वरिष्ठ नेता कुमार विश्वास के मामले पर दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) द्वारा बुलाई गई प्रेसवार्ता में उस समय हंगामा खड़ा हो गया, जब आयोग की एक सदस्य ने कहा कि विश्वास पर झूठे आरोप लगाए गए हैं। इसके साथ ही उन्होंने आयोग से अपने इस्तीफे की घोषणा कर दी। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के करीबी माने जाने वाले कुमार विश्वास को दिल्ली महिला आयोग ने सम्मन जारी किया था। आम आदमी पार्टी (आप) की एक महिला कार्यकर्ता ने विश्वास से उनके और महिला कार्यकर्ता के बीच संबंध की अफवाहों को सार्वजनिक रूप से खारिज करने के लिए कहा है।

जैसे ही डीसीडब्ल्यू की अध्यक्ष बरखा सिंह मीडिया को संबोधित करने के लिए तैयार हुईं, उनके ठीक बगल में बैठीं आयोग की सदस्य जूही खान ने संवाददाताओं से कहा कि कुमार विश्वास निर्दोष हैं और उनके ऊपर झूठे आरोप लगाए जा रहे हैं। उन्होंने बरखा सिंह पर भी आरोप लगाया कि वे इस मामले पर राजनीतिक लाभ लेने का प्रयास कर रही हैं। उल्लेखनीय है कि बरखा सिंह कांग्रेस की सदस्य हैं। इसके बाद नाराज बरखा सिंह ने जूही खान पर आरोप लगाते हुए कहा कि वे आप की सदस्य हैं। इसके बाद जूही वहां से चली गईं और डीसीडब्ल्यू से इस्तीफे की घोषणा कर दी।

उन्होंने कहा, "कुमार विश्वास निर्दोष हैं और उन पर झूठे आरोप लगाए गए हैं।" आप की एक महिला कार्यकर्ता ने महिला आयोग से कुमार विश्वास को इस बात के लिए राजी करने का आग्रह किया था कि वे सार्वजनिक रूप से दोनों के बीच रिश्तों की बात खारिज कर दें। आप की महिला कार्यकर्ता ने आप नेता पर उसके साथ अवैध संबंध की अफवाह खारिज न करने के कारण उसकी जिंदगी बर्बाद करने का आरोप लगाया। डीसीडब्ल्यू ने सोमवार को कथित तौर पर इस मामले में कुमार विश्वास को आयोग के समक्ष मंगलवार को पेश होने का सम्मन भेजा था। कुमार विश्वास ने जब कहा कि उन्हें कोई सम्मन नहीं मिला है तो बरखा सिंह ने कहा कि नया सम्मन जारी किया जाएगा।