दत्ता जयंती 2019 : भगवान दत्तात्रेय जयंती और दत्तात्रेय व्रत के अनुष्ठान

दत्ता जयंती 2019 : भगवान दत्तात्रेय जयंती और दत्तात्रेय व्रत के अनुष्ठान
देवता दत्तात्रेय लोगों को सही तरीके से अच्छा जीवन जीने के लिए मार्गदर्शन करने के लिए जाने जाते हैं। उनके अवतार के दिन उनकी पूजा करने से भक्तों को समृद्ध जीवन जीने में सहायता मिलती है। दत्तात्रेय जयंती पर कुछ हजार बार नाम जप सभी के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह महत्वपूर्ण है कि व्यक्ति जीवन के छोटे मुद्दों की तुलना में गंभीर समस्याओं के लिए अधिक जाप करना चाहिए।
 
दत्त जयंती और दत्तात्रेय व्रत के अनुष्ठान
अन्य पूजाओं की तरह, भक्त जल्दी उठते हैं, पवित्र जल निकायों में स्नान करते हैं, और दिन का उपवास करते हैं।
पूजा समारोह के दौरान विशिष्ट फूल, अगरबत्ती, दीपक और मिठाइयाँ भेंट की जाती हैं। भक्ति गीत गाना चाहिए और अवधूत गीता और जीवनमुक्ता गीता जैसी भक्ति पुस्तक पढ़नी चाहिए।
पूजा के दौरान, देवता की मूर्ति या तस्वीर पर चंदन का लेप, सिंदूर और हल्दी लगाना चाहिए।
यह भी महत्वपूर्ण है कि पूजा शुरू होने के बाद, भक्तों को भगवान दत्त की मूर्ति के चारों ओर सात घेरे लेने चाहिए और पूजा में सभी को प्रसाद वितरित करना चाहिए।
"श्री गुरु दत्तात्रेय नमः" या ओम श्री गुरुदेव दत्त जैसे मंत्रों का जप मन और आत्मा में पवित्रता के लिए काफी लाभदायक है।
 
दत्तात्रेय जयंती पर महत्वपूर्ण समय
सूर्योदय 11 दिसंबर, 2019 7:01 पूर्वाह्न
सूर्य का अस्त होना 11 दिसंबर, 2019 5:38 बजे
पूर्णिमा तीथि शुरू होती है 11 दिसंबर, 2019 10:59 पूर्वाह्न
पूर्णिमा तीथि समाप्त होती है 12 दिसंबर, 2019 10:42 पूर्वाह्न
 
मानिक प्रभु जैसे मंदिर सात दिनों का त्योहार रखते हैं जो भगवान दत्त को समर्पित है और एकादशी से पूर्णिमा तक बहुत उत्सव मनाया जाता है। इसके अलावा, जयंती से सात दिन पहले, श्री गुरुचरित्र का पाठ करना एक महत्वपूर्ण अनुष्ठान है जो त्योहार शुरू होता है।

 

ये चार ग्रह कारण हो सकते है प्रेम विवाह के सफल न होने का

यदि बदलना चाहते है अपनी किस्मत तो, बदलिए अपना पहनावा

माथे की इन लकीर से पता चलेगा कितने भाग्यशाली हैं आप