डाटा लीक : गूगल क्रोम इन्कॉग्निटो को अगर समझते है सुरक्षित तो आँखें खोल लीजिए

Aug 24 2018 12:15 PM
डाटा लीक : गूगल क्रोम इन्कॉग्निटो को अगर समझते है सुरक्षित तो आँखें खोल लीजिए

नई दिल्ली : हम आज बात करने जा रहे है आपकी सुरक्षा की आज के ज़माने में आपकी सुरक्षा सड़क के साथ - साथ आपके स्मार्टफोन में भी जरुरी है. पिछले दिनों डाटा सुरक्षा के मामले सामने आए है. इन खबरों में कई बड़ी कंपनियों के साथ फेसबुक का नाम भी सामने आया था. फेसबुक पर भी डाटा लीक के आरोप लगे थे, जिसके बाद फेसबुक ने अपने यूजर्स से माफ़ी भी मांगी थी, मामले में फेसबुक को 8.7 करोड़ यूजर्स के डेटा चोरी के आरोप में कड़ी आलोचना झेलनी का शिकार होना पड़ा था. 


*अब इस मामले में जो खबर सामने आ रही है वह भी चौकाने वाली है सर्च के मामले में अब आरोप लगे है गूगल पर.
- गूगल में एक फीचर है incognito मोड जो आपको इन्टरनेट इस्तेमाल करते समय सुरक्षा देने या यूं कहे आपका डाटा सुरक्षित रखने      का वादा करता है. लेकिन अब खबर आई है कि  incognito मोड पर भी आपका डाटा सेफ नहीं है. 

*क्या होता है इसमें 
- गूगल क्रोम में सबसे अधिक प्रयोग उस स्थिति में किया जा सकता है जब आप अपनी browsing history को पीछे नहीं छोड़ना          चाहते  हो.
- इस मोड में किये गये ब्राउज़िंग सेशन के दौरान क्रिएट हुआ डाटा जैसे browsing history और कूकीज जो है वो आपके browsing        history में स्टोर नहीं होती है.
- लेकिन बता दें कि वो files जो आपने डाउनलोड की है या अगर कोई bookmark बनाया है तो वह save रहता है.
- इस मोड में केवल चीज़े आपके कंप्यूटर पर स्टोर नहीं होती है लेकिन आपके ISP (Internet service provide) को इसकी जानकारी    रहती है कि अपने कौनसी कौनसी websites विजिट की है.

यह ख़बर सामने आने के बाद गूगल ने इस पर अपना स्पष्टीकरण दिया है कि गूगल ऐसी कोई जानकारी लीक नहीं करता और न ही किसी की कोई जानकारी सुरक्षित रखी जाती है.

ख़बरें और भी...

विदेशों में इस शुभ मुहूर्त में बांधें राखी

अब दिल्ली-भोपाल के बीच दौड़ेगी देश की पहली सेमी-हाई स्पीड ट्रेन

तकनिकी खराबी के कारण नहीं हो सका राहुल गाँधी का भाषण लाइव : कांग्रेस

केरल के बाद अब हिमाचल प्रदेश में मंडरा रहा बाढ़ का खतरा