स्मार्ट फ़ोन में खतरनाक वायरस मिला, स्क्रीन के लॉक होने पर भी विडियो रिकॉर्ड करने में समर्थ

स्मार्ट फ़ोन में खतरनाक वायरस मिला, स्क्रीन के लॉक होने पर भी विडियो रिकॉर्ड करने में समर्थ

नई दिल्ली: स्मार्टफोन्स में बग (वायरस) आने के मामले दिन पर दिन बढ़ते जा रहे हैं। चिंता की बात यह है कि इनसे निपटने में बड़ी-बड़ी टेक कंपनियां भी पूरी तरह से सफल नहीं हो पा रही हैं। अब ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन्स से जुड़े एक और वायरस का पता चला है। यह वायरस डिवाइस की स्क्रीन के लॉक होने पर भी हैकर्स को फोटो क्लिक और विडियो रिकॉर्ड करने की सहूलियत देता है। दुनिया की दो बड़ी टेक कंपनी Google और Samsung ने इस बग को कन्फर्म भी कर दिया है।

गूगल पिक्सल में खोजा गया ह ये वायरस| इस बग का पता चेकमार्क्स सिक्यॉरिटी रिसर्च टीम ने लगाया है। स्मार्टफोन कैमरा को हैक करने वाले इस बग को CVE-2019-2234 नाम दिया गया है। इस टीम से जुड़े एक रिसर्चर ने अपने ब्लॉग में कहा, 'हमारी टीम ने गूगल पिक्सल 2 XL और पिक्सल 3 पर गूगल के कैमरा ऐप का अच्छे से रिसर्च किया। इस रिसर्च में हमें कई ऐसे खतरों का पता चला जो परमिशन बाईपास के कारण स्मार्टफोन और यूजर्स को नुकसान पहुंचा सकते हैं। अधिक जांच करने पर हमने पाया कि यही खतरा ऐंड्रॉयड पर काम करने वाले दूसरे कई स्मार्टफोन्स में भी मौजूद है। सैमसंग के ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन भी इस खतरे से सुरक्षित नहीं हैं। यह काफी चिंता का विषय है क्योंकि ऐंड्रॉयड स्मार्टफोन यूजर्स की संख्या करोड़ों में है।

रिसर्च में जोर देकर ये कहा गया है कि यह बग फोटो और विडियो लेने के साथ ही डिवाइस और उसकी स्क्रीन के लॉक होने पर भी ऐक्टिव रहता है। इतना ही नहीं यह किसी फोन कॉल के बीच में भी अपना काम आसानी से कर सकता है। इन सब खतरों को जानते हुए यूजर्स की प्रिवेसी को होने वाले नुकसान का अंदाजा लगाना कोई मुश्किल काम नहीं है। इतना ही नहीं, रिसर्चर्स ने कहा है कि यह बग जीपीएस हैक कर यूजर की लोकेशन पर भी लगातार नजर रख सकता है। बग को फिक्स करने की कोशिश जारी रहेगी|

रिसर्चर्स का बताया हैं कि ऐंड्रॉयड कैमरा ऐप्लिकेशन आमतौर पर इमेज और विडियो को एसडी कार्ड में स्टोर करके रखता है। ऐसे में ऐप्स को इन्हें ऐक्सेस करने के लिए परमिशन की जरूरत पड़ती है। इसमें दिक्कत यह है कि स्टोरेज परमिशन काफी व्यापक होते हैं और इस कारण ऐप्स को पूरे एसडी कार्ड का ऐक्सेस मिल जाता है। रिसर्च फर्म ने अपनी इस रिपोर्ट को इसी साल जुलाई में गूगल के साथ शेयर कर दिया था। इस बारे में गूगल ने रिसर्च फर्म को इस बग का पता लगाने के लिए धन्यवाद दिया। फिलहाल गूगल और चेकमार्क्स रिसर्च टीम ऐंड्रॉयड पार्टनर्स के साथ मिलकर इस बग को ठीक करने की कोशिश में लगी हैं।

आज लॉन्च होंगे ये 2 शानदार फीचर्स वाले स्मार्टफोन्स, जानें क्या है कीमत

ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी, जल्द लॉन्च होने वाला है Huawei Nova 6, जानें क्या है फीचर्स

वर्ल्ड टीवी डे के मौके पर Thomson LED TV हुई सस्ती, जानिये डिस्काउंट ऑफर