दलितों के घर भोजन सिर्फ ड्रामा - मोहन भागवत

 दलितों को अपने पक्ष में करने के लिए बीजेपी नेताओं के द्वारा उनके घर खाना खाने को आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने 'ड्रामा' बताते हुए बीजेपी नेताओं को दो टूक कहा कि इससे अच्छा तो यही है कि समाज के कमजोर वर्ग के लोगों से बातचीत की जाए.

उल्लेखनीय है कि दिल्ली में आरएसएस और वीएचपी नेताओं के एक कार्यक्रम में मोहन भागवत ने बीजेपी नेताओं से दलितों के घर खाना खाने का 'ड्रामा' बंद करने की नसीहत दी और कहा कि समाज के कमजोर वर्ग के लोगों से बातचीत करना ज्यादा बेहतर होगा. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार भागवत ने कहा कि दलितों के घर खाना लेकर पहुंचना, मीडिया को बुलाना ये सब सिर्फ पब्लिसिटी स्टंट हैं.

आपको बता दें कि कर्नाटक चुनाव प्रचार में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और पार्टी के सीएम पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा कई बार दलितों के घरों का दौरा कर चुके हैं.इसकी देखादेखी कर एक माह में अन्य राज्यों में भी बीजेपी के विधायक और सांसद दलितों के घर जा चुके हैं.पश्चिमी यूपी के राज्य के मंत्री सुरेश राणा अपने साथ अपना खाना और पानी लेकर दलित के घर खाना खाने पहुंचे थे.इस मामले की बहुत आलोचना हुई थी.उमा भारती ने भी कहा था कि वह खुद को राम नहीं समझती, जो उनके साथ खाना खाने से दलित पवित्र हो जाएंगे.स्मरण रहे कि आरएसएस भी पांच साल से सामाजिक समानता को लेकर अभियान चला रही है. आरएसएस का लक्ष्य है कि हर गांव में एक मंदिर, एक श्मशान और पानी के लिए काम जरूर करें.

यह भी देखें 

BJP-RSS कर रही हिंदुत्व का सबसे अधिक नुकसान: शंकराचार्य

आरएसएस पर फिल्म को भागवत की मंजूरी, बजट जानकर चौक जायेंगे आप

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -