मुंबई तट पर निसर्ग तूफान की हुई जोरदार टक्कर, 3 घंटों तक जारी रहेगी लैंडफॉल प्रक्रिया

Jun 03 2020 02:39 PM
मुंबई तट पर निसर्ग तूफान की हुई जोरदार टक्कर, 3 घंटों तक जारी रहेगी लैंडफॉल प्रक्रिया

 

लॉकडाउन और कोरोना संक्रमण के बीच चक्रवाती तूफान निसर्ग मुंबई के तटों से टकरा गया है. लैंडफॉल प्रक्रिया शुरू हो गई है और ये अगले 3 घंटों में पूरी होगी. भारत मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक, मुंबई में ऊंची-ऊंची लहरें उठ रही हैं. पूरी मुंबई को अलर्ट पर रखा गया है. एनडीआरएफ की कई टीमें जुटी हुई हैं. मुंबई पुलिस के डीसीपी ने बताया कि चक्रवात मुंबई की तटीय क्षेत्रों पर प्रभावित करेगा. हालांकि, इसका मुख्य प्रभाव रायगढ़ में बताया जा रहा है, लेकिन मुंबई शहर भी इससे प्रभावित रहेगी. इसके अंतर्गत मुंबई पुलिस ने पूरी तैयारी कर रखी है पुलिस स्टेशन में सभी स्टाफ लोगों की सहायता करने के लिए तैनात हैं. बता दें कि इससे पहले 1948 और 1980 में दो बार चक्रवाती तूफ़ान उठा था लेकिन वो तट से नहीं टकराया, समुद्र में ही कमज़ोर पड़ गया था.

महाराष्ट्र में दस्तक देने वाला है बड़ा तूफ़ान, 4 से 7 जून को मचा सकता है तबाही

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि तूफान के टकराने के बाद यहां तेज हवाएं, 100 किमी से भी तेज गति से चल रही है. मुंबई और आस पास के कई च इलाकों में तेज हवाएं बारिश हो रही है. महाराष्ट्र के रत्नागिरी से भी चक्रवाती तूफान निसर्ग टकराया है. यहां तूफान के टकराने के बाद इलाके में तेज हवाएं और तटों पर उच्च ज्वार से रत्नागिरी क्षेत्र प्रभावित हो गया है. एनडीआरएफ के महानिदेशक एसएन प्रधान के मुताबिक, लगभग 43 राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) की टीमें गुजरात ओर महाराष्‍ट्र में तैनात हैं, जिनमें से 21 महाराष्ट्र में हैं.

मुंबई में तबाही मचाने बहुत करीब पहुंच गया है निसर्ग तुफान

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार लैडफॉल से पहले महाराष्ट्र के मुंबई और महानगरीय क्षेत्रों में मंगलवार शाम से बारिश शुरू हो गई. समाचार एजेंसी पीटीआइ के अनुसार यह रात में और तेज हो गई. ऐसे में महाराष्‍ट्र सरकार ने पहले ही लोगों को सचेत कर दिया था. सरकार की ओर से गाइडलाइंस जारी की गई थी कि इस दौरान लोग क्‍या-क्‍या सावधानियां बरतें और क्‍या न करें. जैस, चक्रवात के आने से पहले अगर घर के बाहर कुछ ऐसी चीजें रखी हैं, जिन्हें तेज हवाओं में क्षति पहुंच सकती है तो उन्हें या तो अच्छे से बांध दें या फिर उन्हें घर के अंदर रख लें. चक्रवात से जुड़ी अफवाहों पर बिल्कुल भी ध्यान न दें.

इंदौर : अनुमति प्राप्त दुकानें खोली जा सकेंगी, गैर अनुमति दुकानों के खुलने पर होगी करवाई

दतिया में हुआ भीषण हादसा, दो बच्चों की मौत

दिल्ली में लगातार बढ़ रहा कोरोना संक्रमण, चपेट में आए 100 से अधिक कर्मचारी