कोरोना : आखिर क्यों विशाल फुटबॉल ग्राउंड को बनाया जा रहा अस्पताल ?

Mar 28 2020 05:44 PM
कोरोना : आखिर क्यों विशाल फुटबॉल ग्राउंड को बनाया जा रहा अस्पताल ?

कोरोना के कहर की वजह से सारा विश्व खौफ में है. इस वायरस के कारण अस्‍पतालों में जगह की कमी हो गई है. इसको देखते हुए कई जगहों पर मेकशिफ्ट अस्‍पताल बनाए गए हैं. इसके तहत कहीं शिप को अस्‍पताल में बदला गया है तो कहीं पर फुटबाल के ग्राउंड में अस्‍थायी तौर पर अस्‍पताल बनाए गए हैं. कहीं-कहीं पर बड़े-बड़े होटलों को भी अस्‍पतालों में बदल दिया गया है. ये सभी कुछ कोरोना वायरस के मरीजों की बढ़ती संख्‍या को देखते हुए किया जा रहा है. ऐसा किसी एक देश में नहीं है बल्कि ऐसा करने वाले कई देश हैं. भारत में भी ऐसा ही कुछ किया गया है. आइये जानें कहां-कहां हुए हैं ऐसे इंतजाम.

अधिकारियों की फौज के साथ मीटिंग में व्यस्त रहे सीएम योगी, जनता को राहत पहुंचाने के लिए दिया ये निर्देश

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि यहां के टॉप फुटबाल क्‍लब ने अपने स्‍टेडियम को स्‍वास्‍थ्‍य विभाग को इसलिए सौंप दिया है ताकी वहां पर कोरोना वायरस के मरीजों के लिए अस्‍थायी अस्‍पताल बनाया जा सके. आपको यहां पर बता दें कि ब्राजील में भी कोरोना वायरस तेजी से पांव पसार रहा है. यहां पर अब तक इसके 3477 मामले सामने आ चुके हैं. वहीं 93 लोगों की मौत हो चुकी है. अन्‍य देशों की तुलना में यहां पर इस वायरस से होने वाली मौत का आंकड़ा काफी अधिक है.

लॉकडाउन : सरकार ने इस योजना को किया लॉन्च, फ्री समय का उठा सकते है लाभ

वायरस के प्रकोप के चलते आने वाले दिनों में इसके मरीजों की संख्‍या में जबरदस्‍त उछाल की आशंका को देखते हुए यहां पर उस खतरनाक स्थिति से निपटने के लिए ही फुटबाल ग्रांउड को अस्‍पताल में तब्‍दील किया जा रहा है. आपको बता दें कि ब्राजील लेकिनट अमेरिका के उन देशों में से एक है जहां की आर्थिक हालत बेहद खराब है. यहां पर लोग छोटे और गंदगी के बीच रहने को मजबूर हैं. यहां पर भूखमरी का स्‍तर पर भी काफी अधिक है. ऐसे में यदि इस पर जल्‍द ही कोई अंकुश नहीं लगाया जा सका तो स्थिति भयावह हो सकती है. ब्राजील के कुछ दूसरे शहरों में भी अस्‍पतालों में अतिरिक्‍त बेड की व्‍यवस्‍था की जा रही है.

कोरोना के खौफ के चलते इन बाइक्स के लांच के लिए करना होगा लम्बा इंतजार

तमिलनाडु : राज्य में कोरोना वायरस का नया आंकड़ा आया सामने

BSF : चौबीसों घंटे मुस्तैद सेना के जवान, लॉकडाउन में सुरक्षित देश की सीमा