+

CRPF के 12 अफसरों पर कार्रवाई, सोशल मीडिया पर अपनी बात रखने का आरोप

Dec 04 2019 04:10 PM
CRPF के 12 अफसरों पर कार्रवाई, सोशल मीडिया पर अपनी बात रखने का आरोप

प्रमोशन एवं वित्तीय मामलों को लेकर केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के कॉडर अधिकारियों और आईपीएस अफसरों के बीच चल रहे तनातनी बढ़ती जा रही है. सीआरपीएफ मुख्यालय ने अपने ही 12 अधिकारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू कर दी है. कई दूसरे अफसरों के खिलाफ भी जांच होने की बात सामने आई है. इस कार्रवाई के पीछे यह तर्क दिया गया है कि अर्धसैनिक बलों के अफसर नियमों से परे सोशल मीडिया में अपनी बात रख रहे हैं. सीआरपीएफ के रिटायर्ड अफसरों ने इस कार्रवाई को निंदनीय बताया है.

पश्चिम बंगाल : विधानसभा की कार्यवाही अचानक स्थगित, राज्यपाल पर लगाया आरोप, मिला करारा जवाब

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बावजूद केंद्र सरकार कॉडर अफसरों को इनका हक नहीं दे रही है. प्रमोशन के स्तर पर ये अधिकारी 15 साल पीछे चल रहे हैं. कॉडर अफसरों को अपनी बात रखने के लिए आगे नहीं आने दिया जाता. इस मामले में बातचीत के लिए जब बुलाया जाता है, तो वहां गृह मंत्रालय यह शर्त रख देता है कि बैठक में एडीजी रैंक से नीचे के अधिकारी न हों.

दिग्गज नेता पी चिदंबरम की रिहाई पर कांग्रेस देने वाली है बड़ा संदेश !, जेल के बाहर सभी नेता...

जानिए क्या है 'आईपीएस बनाम कॉडर अफसर' विवाद 
विभिन्न अर्धसैनिक बलों के करीब दस हजार कॉडर अफसर अपने प्रमोशन को लेकर परेशान हैं. इनमें सहायक कमांडेंट से लेकर आईजी रैंक तक के अधिकारी शामिल हैं. जिस तरह से केंद्र सरकार की दूसरी संगठित सेवाओं में एक तय समय के बाद रैंक या फिर उसके समकक्ष वेतन मिलता है, वैसा सभी केंद्रीय सुरक्षा बलों के अधिकारियों को नहीं मिल पा रहा है. करीब बीस साल की सेवा के बाद आईपीएस अधिकारी आईजी बन जाता है, लेकिन कॉडर अफसर उस वक्त कमांडेंट के पद तक पहुंच पाता है. कॉडर अफसर 33 साल की नौकरी के बाद बड़ी मुश्किल से आईजी बनता है.

कड़ी सुरक्षा के बीच स्वीडन के राजा-रानी ने सफाई अभियान में लिया भाग, हरिद्वार जाकर इस संयंत्र का करने वाले है लोकार्पण

हिमाचल के मुख्यमंत्री ने कहा- 'आधुनिकता की दौड़ में संस्कार को बचाएं'...

सबरीमाला मंदिर में प्रवेश से महिला का रोका, सुप्रीम कोर्ट पहुंची महिला