फसलें जो सूखे में भी नहीं होती ख़राब

फसलें जो सूखे में भी नहीं होती ख़राब
Share:

जलवायु परिवर्तन से बढ़ती चुनौतियों का सामना कर रहे विश्व में, सूखा प्रतिरोधी फसलों की आवश्यकता कभी इतनी अधिक नहीं रही। ये लचीले पौधे बदलते मौसम के मिजाज के बावजूद हमारी खाद्य आपूर्ति और आजीविका को सुरक्षित रखने की क्षमता रखते हैं। इस लेख में, हम सूखा प्रतिरोधी फसलों के महत्व और उन्हें विकसित करने के लिए कृषि विज्ञान में हो रही आशाजनक प्रगति का पता लगाएंगे।

सूखे की दुविधा

सूखा एक प्राकृतिक आपदा है जो पारिस्थितिकी तंत्र को बाधित करती है, कृषि को खतरे में डालती है और वैश्विक खाद्य सुरक्षा के लिए एक महत्वपूर्ण खतरा पैदा करती है। जैसे-जैसे जलवायु परिवर्तन के कारण वर्षा का पैटर्न तेजी से अनियमित होता जा रहा है, सूखे की आवृत्ति और तीव्रता बढ़ रही है। यह उन अरबों लोगों के लिए परेशानी का सबब है जो अपनी जीविका के लिए कृषि पर निर्भर हैं।

मानव टोल

सूखे के कारण फसल की विफलता से कमजोर क्षेत्रों में भोजन की कमी, कुपोषण और यहां तक ​​कि अकाल भी पड़ सकता है। लाखों लोगों की आजीविका दांव पर है, जिससे सूखा प्रतिरोधी फसलों का विकास अत्यंत महत्वपूर्ण हो गया है।

प्रकृति की प्रेरणा: सूखा-सहिष्णु फसलें

प्रकृति से सीखना

प्रकृति ने हमें पहले से ही सूखा-प्रतिरोधी फसलें पैदा करने के संकेत दिए हैं। कुछ पौधे, जैसे रसीले पौधे और कैक्टि, शुष्क परिस्थितियों में पनपने के लिए विकसित हुए हैं। वैज्ञानिक इन प्राकृतिक बचे लोगों का उनके लचीलेपन के रहस्यों को जानने के लिए अध्ययन कर रहे हैं।

प्राचीन ज्ञान

शुष्क क्षेत्रों की पारंपरिक कृषि पद्धतियाँ भी बहुमूल्य अंतर्दृष्टि प्रदान करती हैं। स्थानीय ज्ञान की शक्ति का प्रदर्शन करते हुए, स्वदेशी समुदायों ने पीढ़ियों से सूखा-सहिष्णु फसलों की खेती की है।

आधुनिक विज्ञान: प्रजनन लचीलापन

जेनेटिक इंजीनियरिंग

जेनेटिक इंजीनियरिंग में प्रगति ने वैज्ञानिकों को किसी फसल के डीएनए में सीधे हेरफेर करने में सक्षम बना दिया है। इस दृष्टिकोण ने कठोर पौधों से जीन को शामिल करके सूखा-प्रतिरोधी किस्मों को विकसित करने का वादा दिखाया है।

परिशुद्धता प्रजनन

सटीक प्रजनन तकनीकें, जैसे कि CRISPR-Cas9, अधिक लक्षित आनुवंशिक संशोधनों की अनुमति देती हैं। यह सटीकता अनपेक्षित परिणामों के जोखिम को कम करती है और सूखा प्रतिरोधी फसलों के विकास में तेजी लाती है।

सूखा प्रतिरोधी फसलों का वादा

1. सूखा-सहिष्णु मक्का

मक्का, जो दुनिया के कई हिस्सों की प्रमुख फसल है, को लंबे समय तक पानी की कमी का सामना करने के लिए आनुवंशिक रूप से संशोधित किया जा रहा है। इससे अनगिनत किसानों की आजीविका सुरक्षित हो सकती है।

2. सूखा प्रतिरोधी चावल

चावल अरबों लोगों का आहार है। शोधकर्ता ऐसी किस्मों पर काम कर रहे हैं जो कम पानी में भी पनप सकें और सूखाग्रस्त क्षेत्रों में भी स्थिर खाद्य आपूर्ति सुनिश्चित कर सकें।

3. सूखा प्रतिरोधी गेहूं

गेहूं एक वैश्विक आहार आधारशिला है। सूखे के दौरान उपज को होने वाले नुकसान से बचाने के लिए सूखा प्रतिरोधी गेहूं की किस्में विकसित की जा रही हैं।

4. ज्वार: एक प्राकृतिक उत्तरजीवी

ज्वार, एक सूखा-प्रतिरोधी अनाज, पहले से ही शुष्क क्षेत्रों में एक प्रमुख फसल है। इसकी सूखा सहनशीलता को और बढ़ाने के प्रयास चल रहे हैं।

क्षितिज पर चुनौतियाँ

पर्यावरणीय चिंता

आनुवंशिक रूप से संशोधित सूखा प्रतिरोधी फसलों का विकास और अपनाना विवाद से रहित नहीं है। आलोचक संभावित पर्यावरणीय प्रभावों और अनपेक्षित परिणामों के बारे में चिंता जताते हैं।

नैतिक प्रतिपूर्ति

सूखा प्रतिरोधी फसलों और उनके लाभों का समान वितरण एक महत्वपूर्ण नैतिक चिंता का विषय है। यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि कमजोर समुदायों की इन नवाचारों तक पहुंच हो।

आगे का रास्ता

सहयोगात्मक प्रयास

सूखा प्रतिरोधी फसल विकास की चुनौतियों से निपटने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहयोग की आवश्यकता है। वैज्ञानिकों, सरकारों और संगठनों को स्थायी समाधान खोजने के लिए मिलकर काम करना चाहिए।

जन जागरण

सूखा प्रतिरोधी फसलों के महत्व और उनके पीछे के विज्ञान के बारे में सार्वजनिक जागरूकता बढ़ाने से अनुसंधान और विकास प्रयासों के लिए समर्थन मिल सकता है।

जलवायु परिवर्तन शमन

दीर्घावधि में, जलवायु परिवर्तन से निपटना सूखे से संबंधित चुनौतियों का अंतिम समाधान है। ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करना और टिकाऊ प्रथाओं को बढ़ावा देना महत्वपूर्ण कदम हैं।

बदलती जलवायु के सामने सूखा प्रतिरोधी फसलें आशा प्रदान करती हैं। इन लचीले पौधों में हमारी खाद्य आपूर्ति को सुरक्षित करने, आजीविका की रक्षा करने और सूखे के विनाशकारी प्रभावों को कम करने की क्षमता है। हालाँकि चुनौतियाँ मौजूद हैं, विज्ञान और सहयोग अधिक लचीले कृषि भविष्य का मार्ग प्रशस्त कर सकते हैं।

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -