अब ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी सीखेंगे नैतिकता का सबक

सिडनी: ऑस्ट्रेलियाई टीम को क्रिकेट में जितनी शोहरत हासिल है, उतनी ही यह टीम बदनाम भी है, फिर चाहे वो विपक्षी खिलाड़ियों पर तंज कसने का मामला हो, या साउथ अफ्रीका दौरे पर हाल ही में हुआ बहुचर्चित बॉल टेंपरिंग कांड, ऑस्ट्रेलियाई टीम अपने शुरूआती दौर से ही विवादों के कारण चर्चित रही है. लेकिन अब क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने अपने खिलाड़ियों को नैतिकता का पाठ पढ़ाने के लिए एक नया तरीका निकाला है.

क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने क्रिकेट को झकझोर देने वाले धोखेबाजी प्रकरण के मद्देनजर खेल संस्कृति की समीक्षा के लिए नैतिकता गुरू की नियुक्ति की है. बॉल टेम्परिंग कांड से क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की विश्व क्रिकेट में काफी थू-थू हुई थी, साथ ही इस मामले के कारण ऑस्ट्रेलिया के कई स्पोंसर्स भी उसे छोड़कर चले गए थे. लेकिन अब आगे इस तरह के मामलों की पुनरावृत्ति न हो इसलिए क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने नैतिकता गुरु की नियुक्ति की है.

क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने सिमोन लोंगस्टाफ की नियुक्ति की है जो सिडनी स्थित गैर लाभार्थ संगठन द एथिक्स सेंटर के प्रमुख है, वह मौजूदा और पूर्व खिलाडिय़ों, प्रशासकों, मीडिया और प्रायोजकों से बात करके सुझाव देंगे. केपटाउन में तीसरे टेस्ट के दौरान कप्तान स्टीव स्मिथ, उपकप्तान डेविड वार्नर और बल्लेबाज कैमरन बेनक्राफ्ट को गेंद से छेडख़ानी के आरोप में प्रतिबंध झेलना पड़ा था. 

IPL 2018: आज भूखे शेरों की तरह लड़ेंगी कोहली-रोहित की सेना

IPL 2018: रायडू धोनी के कान में कुछ कहना चाहते थे लेकिन धोनी ने वापस भगा दिया

IPL 2018: 3 मिनट में देखें पुराने रंग में नजर आए माही की ताबड़तोड़ बल्लेबाजी

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -