क्रिसमस के दिन शिमला की और चलेगी देश की पहली फुल विस्ताडोम ट्रेन, जाने क्या होगा किराया

शिमला: देखते ही देखते और पूरे देश में क्रिसमस कि तैयारियों के चलते देश की पहली विस्ताडोम ट्रेन क्रिसमस के दिन बुधवार को कालका से सैलानियों को लेकर शिमला पहुंचेगी. सात कोच वाली इस ट्रेन में छह पारदर्शी विस्ताडोम कोच होंगे. अब तक देश में अन्य स्थानों पर चल रही ट्रेनों में एक या दो विस्ताडोम कोच के साथ ही ट्रेनें चल रही हैं. क्रिसमस के मौके पर पहली बार हिमाचल में पारदर्शी विस्ताडोम ट्रेन ‘हिम दर्शन एक्सप्रेस’ का संचालन होगा.

वहीं इस बात की जानकाई मिली है कि पहले चार दिन 25 से 28 दिसंबर 2019 तक कालका से शिमला के लिए यह ट्रेन एडवांस बुक हो चुकी है. पारदर्शी विस्ताडोम ट्रेन कालका से सुबह 7:00 बजे रवाना होगी और 12:55 पर शिमला पहुंचेगी. इस ट्रेन के भीतर सीटों पर बैठे-बैठे ही सैलानी बर्फीली वादियों का आनंद ले सकेंगे. शिमला से ट्रेन 3:50 बजे कालका की ओर रवाना होगी और 9:15 पर कालका पहुंचेगी. विस्ताडोम कोच में 15 यात्रियों के बैठने की क्षमता होगी, जबकि फर्स्ट क्लास सिटिंग कम लगेज कोच की क्षमता 14 होगी. कालका से शिमला की ओर ट्रेन नंबर 52459 और शिमला से कालका की ओर 52460 की ऑनलाइन बुकिंग भी की जा सकती है.

कोच की खासियत:-
वातानुकूलित है, खिड़कियां मोटे पारदर्शी शीशे की हैं जो सामान्य से ज्यादा बड़ी हैं. 
छत भी शीशे की है, कोच का इंटीरियर भी खास तौर पर डिजाइन किया गया है .
डिब्बे, दरवाजे और खिड़कियों में कठोर शीशे का इस्तेमाल, स्टील रेलिंग भी लगाई गई है .
एलईडी लाइटें, तापमान मापक यंत्र भी लगा है, कोच में वेस्टर्न टॉयलेट की सुविधा उपलब्ध.

आपकी जानकारी के मिए हम बता दें कि यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज कालका-शिमला ट्रैक पर सैलानियों के लिए 25 दिसंबर से शुरू हो रही हिम दर्शन एक्सप्रेस देश की पहली फुल विस्ताडोम ट्रेन है. मौजूदा समय देश में अन्य स्थानों पर ट्रेनों के साथ एक या दो विस्ताडोम कोच ही चलाए जा रहे हैं. 

घी लेने के बहाने महिला के घर पहुंचा पड़ोसी, पिला दी नशीली कोल्ड-ड्रिंक और फिर...

उत्तर प्रदेश: गाँव के पूर्व प्रधान की गोली मारकर हत्या, आक्रोशित ग्रामवासियों ने किया हंगामा

सीएम जगन रेड्डी का ऐलान, कहा- आंध्र प्रदेश में लागू नहीं होगा NRC, कांग्रेस भी जारी करे बयान

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -