राष्ट्रगान के दौरान माराडोना को बाहर भेज सकता था विश्व कप फाइनल का रेफरी

फीफा विश्व कप-1990 में वेस्ट जर्मनी और अर्जेटीना के बीच खेले गए फाइनल मैच में अंपायरिग करने वाले रेफरी इडगाडरे कोडेसल ने कहा है कि वह महान डिएगो माराडोना को मैच शुरू होने से पहले ही बाहर भेजने के बारे में सोच रहे थे.

कोडेसल ने कहा कि माराडोना राष्ट्रीयगान के समय लगातार अपशब्दों का इस्तेमाल कर रहे थे और वह उन्हें मैच शुरू होने से पहले ही रेड कार्ड दिखाने के बारे में सोच रहे थे. टिरनाडो पारेडेज ने कोडेसल के हवाले से लिखा है, "जैसे ही मैच शुरू हुआ मैं उन्हें बाहर भेज सकता था क्योंकि वह राष्ट्रीयगान के समय ही लगातार अपशब्दों का इस्तेमाल कर रहे थे."

इस मैच में वेस्ट जर्मनी ने अर्जेटीना को 1-0 से हराया था. उन्होंने कहा, "बाद में मैंने जब मोनजोन को बाहर भेजा तो माराडोना मेरे पास आए और उन्होंने मुझसे कहा कि मैं चोर हूं और फीफा के पेरोल पर हूं. एक फुटबालर के तौर पर वह शानदार थे लेकिन एक इंसान के तौर पर वह बिल्कुल भी अच्छे नहीं थे, मेरे जीवन के सबसे बुरे इंसानों में से एक."

दो हफ़्तों में ही टूट गया इस दिग्गज खिलाड़ी की माँ का दिल, सामने आई चौका देने वाली बात

पाकिस्तान की इस महिला खिलाड़ी ने लिया सन्यास, इनकी ख़ूबसूरती की दीवानी है दुनिया

CORONAVIRUS: चेन्नई सिटी के खिलाड़ियों ने दी लोगों को सलाह, कहा- घरों में रहना जरुरी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -