चौथी तिमाही के वित्त वर्ष में कॉर्पोरेट का 15-17 प्रतिशत बढ़ेगा राजस्व

Apr 09 2021 12:14 PM
चौथी तिमाही के वित्त वर्ष में कॉर्पोरेट का 15-17 प्रतिशत बढ़ेगा राजस्व

गिरावट या एकल-अंकों की वृद्धि के आठ तिमाहियों के बाद, वित्त वर्ष की मार्च तिमाही में कॉर्पोरेट आय 15-17 प्रतिशत के उच्च दोहरे अंकों में बढ़ गई, जो आंशिक रूप से कम आधार और बेहतर प्राप्ति के कारण एक रिपोर्ट में कहा गया है कि उच्च कमोडिटी की कीमतें, उनके परिचालन लाभ को 28-30 प्रतिशत तक बढ़ा देती हैं। क्राइसिल रेटिंग्स के पूर्व-आय अनुमान के अनुसार, वित्त वर्ष 2021 की दूसरी छमाही में एक उल्लेखनीय वसूली के साथ, कुल राजस्व राजकोषीय 2020 की तुलना में सिर्फ 50 बीपीएस कम हो सकता है। 

वित्त वर्ष 2015 के Q4 में राजस्व का 15-17 प्रतिशत बढ़कर 6.9 लाख करोड़ रुपये होने का अनुमान 300 कंपनियों के विश्लेषण पर आधारित है, जो एनएसई के बाजार पूंजीकरण के 55- 60 प्रतिशत के लिए जिम्मेदार है, एजेंसी ने कहा, परिचालन लाभ जोड़कर तिमाही में 28-30 प्रतिशत रहें। मजबूत राजस्व वृद्धि साल भर पहले की तुलना में कम आधार पर होती है, इसके अलावा उच्च सरकारी CAPEX और उच्चतर प्राप्ति के साथ-साथ अन्य वस्तुओं में भी बढ़ोतरी होती है। विश्लेषकों की टीम का नेतृत्व करने वाली एजेंसी में एक निदेशक हेतल गांधी के अनुसार, राजस्व गोलमाल पर करीब से नज़र रखने से पता चलता है कि वसूली में 50 प्रतिशत का योगदान ऑटोमोबाइल, आईटी सेवाओं और निर्माण द्वारा किया जाता है। 

उसने यह भी बताया कि यह दो अंकों की वृद्धि या तो आठ अंकों की गिरावट या एकल अंकों की वृद्धि के बाद आती है। वित्त वर्ष 2015 के एच 2 में दिखाई देने वाली वसूली के साथ, इन 300 कंपनियों के लिए कुल राजस्व 23.8 लाख करोड़ रुपये का अनुमान है, जो कि वर्ष के दौरान केवल 0.5 प्रतिशत कम है। यह विकास इस्पात और सीमेंट जैसे निर्माण से जुड़े क्षेत्रों द्वारा किया जाता है, जिनका अनुमान है कि उच्च राजस्व और आय के आधार पर क्रमश: 45-50 प्रतिशत और 17-18 प्रतिशत सालाना राजस्व वृद्धि हुई है।

लगातार तीसरे दिन जारी रही कर्नाटक बस हड़ताल, जानिए क्या है वजह?

भारत कोविड के मामलों में वृद्धि के बीच अपनी क्रिकेट क्षमता दिखाने के लिए तैयार है ये टीम

आर्सेलर मित्तल को बिजनेस प्रोसेस मैनेजमेंट सर्विसेज ऑफर करेगी इंफोसिस