कोरोना के डर से नहीं मिला उचित इलाज तो चली गई बच्चों की जान

कोरोना के डर से नहीं मिला उचित इलाज तो चली गई बच्चों की जान

आगरा: एकाएक बढ़ा ही जा रहा कोरोना का प्रकोप आज पूरी दुनिया के लिए महामारी का रूप लेता रहा है. वही  इस वायरस की चपेट में आने से अब तक 25000 से अधिक मौते हो चुकी है. लेकिन अब भी यह मौत का खेल थमा नहीं है. इस वायरस ने आज पूरी दुनिया को हिला कर रख दिया है. कई देशों के अस्पतालों में बेड भी नहीं बचे है तो कही खुद डॉ. इस वायरस का शिकार बनते जा रहें है. 

मिली जानकारी के अनुसार इस बात का पता चला है कि  कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच आगरा के शाहगंज क्षेत्र में शनिवार को खांसी-जुकाम और बुखार से पीड़ित दो मासूम भाइयों की मौत हो गई. इससे परिवार में कोहराम मच गया. कोरोना की आशंका पर मोहल्ले के लोगों में दहशत फैल गई. परिजनों ने पुलिस को मामले की जानकारी दी. पुलिस ने लोगों को मृतक के घर से दूर रहने की हिदायत दी. इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग की टीम को सूचित किया.  स्वास्थ्य विभाग की टीम कोरोना वायरस के संक्रमण की आशंका पर जांच कर रही है. बच्चों के परिजनों से भी पूछताछ की गई है. पुलिस ने बताया कि जांच के बाद शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा जाएगा.
 
छह-सात दिन से थे दोनों बीमार: जानकारी के अनुसार प्रकाश नगर निवासी श्रमिक के पांच साल के बेटे को छह-सात दिन से खांसी, जुकाम और बुखार आ रहा था. पिता पास के ही एक डॉक्टर से उसका इलाज करा रहे थे.  तीन दिन पहले ही दो साल के मासूम बेटे को भी बुखार हो गया. जंहा यह भी कहा जा रहा यही कि उसका भी पिता डॉक्टर से इलाज करा रहे थे. शनिवार को दोपहर को 12 बजे बड़े बेटे की मौत हो गई. इसके 30 मिनट के अंदर ही छोटे बेटे ने भी दम तोड़ दिया. अचानक हुई दो बच्चों की मौत से परिवार में जहां कोहराम मच गया, वहीं मोहल्ले के लोग दहशत में आ गए. सूचना पर पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंच गई है. मौत के कारणों की जांच कर रही है.

कमलनाथ की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में शामिल कोरोना पॉजिटिव पत्रकार पर FIR हुई दर्ज

इंदौर: मरीज के परिजन को किया गया हॉस्टल में शिफ्ट, नहीं मिली पाई कोई सुविधा

भोपाल में एक और कोरोना पॉजिटिव मिला, संख्या बढ़कर 29 हुई