LOCKDOWN: तब्लीगी जमात से लौटे लोगों पर मुकदमा दर्ज तो कई दिए गए होम क्वारंटीन

देहरादून: दुनियाभर में बढ़ाता जा रहा कोरोना का खौफ लोगों के लिए आफत बनता जा रहा है, जंहा इस बात को ध्यान रखते हुए देश भर में लॉकडाउन का एलान किया जा चुका है. वहीं अब तक इस वायरस की चपेट में आने से लाखों लोग संक्रमित पाए गए है. और इतना ही नहीं अब तक हजारो मौतों का आकंड़ा भी समन आया है. उत्तराखंड में 28 दिन की अवधि में जमात से लौटे 173 लोगों को होम क्वारंटीन कर दिया गया है. इसके अलावा जमात से लौटने की जानकारी छिपाने के आरोप में ऊधमसिंह नगर और श्रीनगर में जमातियों के खिलाफ मुकदमे दर्ज कराए गए हैं. वहीं इस बात का पता चला है कि निजामुद्दीन मरकज में जुटे कई हजार जमातियों में उत्तराखंड के भी 34 जमाती थे. इनमें से 26 अभी नहीं लौटे हैं, जबकि कुछ दिन पहले लौटे 8 लोगों को कल ही क्वारंटीन कर दिया गया था.

वहीं इस बात की जानकारी हाथ आई है कि पुलिस महानिदेशक अपराध अशोक कुमार ने बताया कि एक जनवरी से लेकर अब तक 713 जमाती उत्तराखंड लौटे थे. जनवरी और फरवरी में आए जमातियों को 14 दिन से ज्यादा हो चुके हैं.  डीजी ने खुद सूचना देने का अनुरोध किया28 दिन की अवधि में प्रदेश में करीब 173 जमाती आए हैं. दो दिन के प्रयासों के बाद तमाम जमातियों को होम क्वारंटीन कर लिया गया है. परिजनों को उनसे दूरी बनाए रखने की हिदायत दी गई है. स्वास्थ्य विभाग की टीम उनके मेडिकल परीक्षण में जुटी है.

सूत्रों की माने तो यदि किसी में कोरोना के लक्षण पाए गए तो जरूरी कदम उठाए जाएंगे. उन्होंने बताया कि प्रचार-प्रसार के बाद भी कुछ जमाती अपनी उपस्थिति को पुलिस से छिपा रहे हैं. श्रीनगर कोतवाली में बिजनौर से लौटे जमातियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. दूसरा मुकदमा ऊधमसिंह नगर में दर्ज हुआ है. डीजी अशोक कुमार ने 28 दिन में जमात से लौटे लोगों से खुद ही पुलिस को सूचना देने का अनुरोध किया है, ताकि उनका मेडिकल परीक्षण कराया जा सके. अन्यथा उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा.

Video: कोरोना संदिग्ध को देखते पहुंची डॉक्टरों की टीम, भीड़ ने पत्थर-डंडों से कर दिया हमला

बड़ी खबर शिमला में महंगा हुआ अनाज

कोरोना के प्रकोप के बीच महिला क्रिकेटरों के लिए आई खुशखबरी 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -