पंजाब : अगर ठेके से लेकर पीना है शराब तो, इस बात का रखे ख्याल

भारत के राज्य पंजाब में भी आखिरकार शराब के ठेके खुल ही गए, लेकिन ठेकों पर लोग कम ही नजर आए. वहीं दुकानदारों ने पुख्ता इंतजाम भी किए. मोहाली में एक दुकान पर बोर्ड लगा मिला कि मास्क पहनकर आओ, तभी शराब मिलेगी. ठेके खुलने पर जो नजारे चंडीगढ़ में देखने को मिले थे, मोहाली में स्थिति बिल्कुल विपरीत थी. ठेके के खुलने पर भी लोगों की भीड़ नहीं जुटी. आम दिनों की तरह इक्का दुक्का लोग आते रहे. दूसरी तरफ, अभी तक जिले में शराब की होम डिलीवरी शुरू नहीं हो पाई है. लोगों को शराब ठेकों से ही खरीदनी पड़ेगी.

''नर्क में अच्छे से सो रियाज़ नायकू'... हिज्बुल कमांडर की मौत पर गंभीर का ट्वीट

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मोहाली में वीरवार सुबह ठीक सात बजे शराब के ठेके खुल गए थे. शराब ठेकेदारों ने चंडीगढ़ में बने हालातों से सबक लेकर ठेकों के बाहर सोशल डिस्टेंस कायम रखने के लिए बकायदा मार्किंग करवाई. कई ठेकेदारों ने मास्क लगाने संबंधी बोर्ड पर दुकान पर लटकाया. ठेकेदारों को भी उम्मीद थी कि जब पौने दो महीने के बाद ठेके खुलेंगे तो लोगों की भीड़ अन्य राज्यों की तरह दिखेगी, लेकिन रिस्पांस पूरी तरह से ठंडा रहा है.

कोरोना ने छीनी ढाई लाख जिंदगियां, बेचैनी से हो रहा वैक्सीन का इंतजार

अगर आपको नही पता तो बता दे कि यह हालात मोहाली शहर ही नहीं, बल्कि खरड़, कुराली, जीरकपुर, बलटाना, डेराबस्सी, मुल्लांपुर, लांडरां, लालडू, एयरोसिटी समेत सारे क्षेत्रों में देखने को मिला. शराब ठेकेदारों के करिंदे लोगों का इंतजार करते रहे, लेकिन ग्राहक बहुत ही कम नजर आए. लोगों की मानें तो चंडीगढ़ और पंचकूला में ठेके खुल गए थे. ऐसे में कई लोगो वहां से शराब ले आए थे. दूसरी तरफ इससे पहले शराब ब्लैक में बिकी है. यह बात विजिलेंस द्वारा दर्ज किए केस से साफ होती है. जब विजिलेंस के अधिकारी ठेके पर ग्राहक बनकर शराब खरीदने गए थे.

इस राज्य में शनिवार-रविवार रहेगा पूर्ण लॉकडाउन

UP : प्रदेश भाजपा इकाई ने आपसी तालमेल बनाने के लिए किया ऐसा काम

लॉकडाउन में नौकरी गंवाने वालों को सैलरी दे सरकार, ट्रेड यूनियन की केंद्र से मांग

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -