आखिर कोरोना प्रकोप से कितनी प्रभावित होगी ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री

भारतीय वाहन बाजार की कोरोना वायरस ने कमतोड़ दी है. कोरोना वायरस की वजह से चीन से आने वाले सामानों पर पाबंदी लगा दी गई है. भारत ऑटो पार्ट्स का 27 फीसदी चीन से आयात करता है. चीन से ये ऑटोपार्ट्स समुद्री मार्ग के द्वारा आते हैं, लेकिन भारत सरकार ने चीन से किसी भी तरह के आयात पर फिलहाल के लिए पाबंदी लगा दी है. इससे ऑटोमोबाइल सेक्टर में आई मंदी की स्थिति और गंभीर हो गई है.

Skoda की यह अपकमिंग कार आपको देगी 340 किलोमीटर का माइलेज

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि कोरोना वायरस की मार से चालू वित्त वर्ष (2020-21) में देश में वाहनों की बिक्री 25 फीसदी तक घट सकती है. एमजी मोटर इंडिया के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि पिछले साल के निचले आधार प्रभाव के बावजूद इस महामारी संकट की वजह से घरेलू बाजार में वाहनों की बिक्री में अच्छी-खासी गिरावट आएगी. एमजी मोटर इंडिया के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक राजीव चाबा ने कहा कि अप्रैल-जून की अवधि में यह स्वास्थ्य संकट चरम पर रहने की आशंका है.

बाइक निर्माता कंपनी के कर्मचारियों ने स्वैच्छिक रूप से एक दिन का वेतन किया दान

उम्मीद की जा रही है कि जुलाई-सितंबर की तिमाही में अर्थव्यवस्था लंगड़ाते हुए एक नई सामान्य स्थिति की ओर बढ़ेगी. उस समय वाहन उद्योग और अन्य उद्योगों के समक्ष प्रमुख मुद्दा यह होगा कि मांग कैसे बढ़ाई जाए. संभवत: उस समय ग्राहक तैयार नहीं होंगे. वे कार नहीं खरीदेंगे. चाबा ने कहा कि ऐसे में उस समय उद्योग को सरकार के समर्थन की जरूरत होगी.

इस स्टाइलिश बाइक की खरीदी पर कंपनी भरेगी 3 महीने की ईएमआई

Vespa Elegante : इन आकर्षिक ​फीचर्स से होगी लैस

Honda Dio BS6 की कीमत में हुआ इजाफा, ये है नया प्राइस

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -