कोरोना संक्रमण के बाद 'डेल्टा प्लस वैरिएंट' ने बढ़ाई परेशानी, इस राज्य में फिर लग सकता है लॉकडाउन

मुंबई: कोरोना महामारी के बीच देशभर में नए पॉजिटिव मामलों में निरंतर कमी देखी जा रही है, मगर इस बीच कोरोना के डेल्टा प्लस वैरिएंट ने समस्यां बढ़ा दी है तथा इसके सबसे अधिक मामले महाराष्ट्र में सामने आए हैं। डेल्टा प्लस वैरिएंट को केंद्र सरकार ने 'चिंताजनक स्वरूप' (वीओसी) के तौर पर टैग किया गया है तथा यदि मामले अधिक बढ़ते हैं तो महाराष्ट्र सरकार को प्रदेश में एकबार फिर पाबंदी लगाने के लिए विवश होना पड़ सकता है।

प्राप्त खबर के मुताबिक, महाराष्ट्र के कई शहरों में डेल्टा प्लस वैरिएंट के मामले आने के पश्चात् राज्य सरकार ने बृहस्पतिवार (24 जून) को इस मसले पर मंत्रीमंडल की बैठक की। बैठक में पूरे प्रदेश में एक बार फिर लॉकडाउन लगाने पर बातचीत की गई। बैठक में प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्रालय ने विशेषज्ञों तथा मंत्रियों को नए संस्करण के मसले पर खबर दी तथा इसकी मौजूदगी पर गंभीर चिंता जाहिर की। कहा जा जा रहा है कि यदि स्थिति ऐसे ही बनी रही तो जल्द प्रतिबंधों की घोषणा की जा सकती है।

रिपोर्ट के मुताबिक, इससे पूर्व महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा था कि प्रदेश के सात शहरों में डेल्टा प्लस वैरिएंट दस्तक दे चुका है और कई केस सामने आए हैं। इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया था कि अफसर ऐसे मामलों को अलग कर रहे हैं तथा संक्रमितों की ट्रेवल हिस्ट्री का विवरण निकालकर कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग कर रहे हैं। राजेश टोपे ने बताया कि राज्य सरकार ने जीनोम अनुक्रम अध्ययन के लिए सैंपल भेजने का निर्णय किया है। उन्होंने आगे बताया, 'अब तक डेल्टा प्लस वैरिएंट से संक्रमित किसी रोगी की मौत नहीं हुई है। इस तरह के लक्षण तथा उपचार समान हैं।

तमिलनाडु सरकार पर्यटन स्थलों में टीकाकरण अभियान को देगी प्राथमिकता

आज के इतिहास को याद करते हुए बोले प्रधानमंत्री मोदी- ‘आपातकाल के ‘काले अध्याय’ को कभी नहीं भुलाया...

1975 के आपातकाल पर बोले राजनाथ सिंह- आज भी वह दौर हमारी यादों में ताजा है...

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -