अब 'कोरोना' को रोकना होगा बेहद मुश्किल, झुग्गी-बस्तियों तक पहुंचा ये जानलेवा वायरस

मुंबई: कोरोना वायरस का संक्रमण अब शहरों की झुग्गी बस्तियों में पहुंच चुका है, जिसके बाद यह भयानक रूप धारण कर सकता है। ऐसे में अब सोशल डिस्टेंस रख पाना कठिन होगा। बताया गया है कि मुंबई की झुग्गी-झोपड़ियां और चॉल में अब यह संक्रमण पहुंच गया है। ये झोपड़ियां और चॉल इतने सघन हैं कि जहां पर सोशल डिस्टेंस हो पाना संभव ही नहीं है। एक सप्ताह के भीतर यहां से चार केस सामने आ चुके हैं। 

दरअसल, सामाजिक दूरी न सिर्फ मलिन बस्तियों और चॉलों के लिए बेकार अवधारणा है बल्कि यहां शारीरिक तौर पर भी यह संभव नहीं है। झुग्गी बस्तियों में अधिकतर  मामलों में टिन की चादरें एक साथ रखी जाती हैं और उनके रहने वाले सामुदायिक शौचालयों का इस्तेमाल करते हैं। चॉलों में भी सामान्य शौचालय हैं और उनके 8X10 के कमरों में सामान्यता छह लोग तक निवास करते हैं। जहां तक संक्रमित रोगों की बात है, यह स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के लिए भी चैलेंज रहा है।

कलिना के जम्बलिपाडा स्लम में जिस 37 वर्षीय व्यक्ति में कोरोना पॉजिटिव पाया गया है, वह इटली में वेटर का काम करता था। इस स्लम में तक़रीबन 800 घर हैं और सौ से कम शौचालय सीटें हैं। इस शख्स की चेकिंग एयरपोर्ट पर हुई थी लेकिन तब उसमें कोरोना के कोई लक्षण नहीं पाए गए थे। जब वह बीमार हुआ तो एक स्थानीय डॉक्टर के पास गया। यहां से उसे कस्तूरबा अस्पताल लाया गया, जहां उसकी जांच रिपोर्ट निगेटिव रही। दुबारा हालत बिगड़ने के चलते कस्तूरबा अस्पताल में उसका दोबारा टेस्ट किया गया और तब उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

लॉकडाउन : गोवा सरकार कैसे लोगों को पहुंचा पाएगी आवश्यक सामग्री ?

कोरोना और लॉकडाउन का असर, कौड़ियों के भाव बिकने लगेगा तेल

लॉकडाउन के बीच LPG सिलिंडरों के लिए मची मारामारी, 200 फीसद बढ़ गई बुकिंग

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -