वुहान लैब से ही फैला कोरोना, चीनी वैज्ञानिकों ने इसे मनुष्यों के लिए घातक बनाया - रिपोर्ट्स

वाशिंगटन: कोरोना वायरस के ओरिजिन को लेकर चीन एक बार फिर निशाने पर है. दरअसल, अमेरिकी रिपब्लिकन पार्टी ने सोमवार को एक रिपोर्ट प्रस्तुत की है, इसमें दावा किया गया है कि कोरोना वायरस चीन की वुहान लैब से ही दुनियाभर में फैला. हालांकि, अभी अमेरिका की खुफिया एजेंसियां इसके निष्कर्ष तक नहीं पहुंच सकी हैं. बता दें कि इससे पहले अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प भी कोरोना वायरस को लेकर चीन पर हमला बोलते रहे हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अमेरिकी रिपब्लिकन पार्टी ने अपनी रिपोर्ट में पर्याप्त प्रमाण का हवाले देते हुए कहा कि वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के वैज्ञानिक इंसानों को संक्रमित करने के लिए वायरस में परिवर्तन कर रहे थे. अमेरिकी रिपब्लिकन पार्टी के सांसद और सदन की विदेश मामलों की कमेटी के प्रमुख माइक मैकॉल ने इस रिपोर्ट को प्रस्तुत किया. उन्होंने अपील की कि उस कोरोना की ओरिजिन का पता लगाने के लिए बहुदलीय जांच होनी चाहिए, जिससे संक्रमित होकर दुनियाभर में 44 लाख लोगों की जान चली गई. 

 बता दें कि यह पहली बार नहीं है, जब चीन पर कोरोना फैलाने का आरोप लगा हो. हालांकि, चीन कोरोना वायरस के वुहान लैब से लीक होने के दावे को ख़ारिज करता रहा है. किन्तु यह बात स्पष्ट है कि दुनिया में कोरोना का सबसे पहला केस चीन के वुहान में 2019 में मिला था. कई विशेषज्ञ भी कोरोना के वुहान से फैलने की थ्योरी पर यकीन करते हैं, हालांकि, यह अब तक साबित नहीं हो पाई है.

न्यूजीलैंड अब यात्रियों को प्रदान करेगा ये खास सुविधा

6 बंदरगाहों पर तालिबान ने किया कब्ज़ा, अफगानिस्तान के राजस्व को लगा बड़ा झटका

अब ईरान पर क्या एक्शन लेगा अमेरिका ? तेल के टैंकर पर किया था ड्रोन अटैक

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -