कोरोना के चलते यूपी से सामने आया ये बड़ा घोटाला

Sep 17 2020 04:44 PM
कोरोना के चलते यूपी से सामने आया ये बड़ा घोटाला

बिजनौर: COVID-19 से बचाव के लिए थर्मामीटर, स्केनर,  पल्स ओक्सोमीटर क्रय करने में हेराफेरी के केस सामने आ रहे हैं। शहर में भी इन यंत्रों को क्रय करने में हेराफेरी की गई है। इसमें करोड़ों रुपये की जीएसटी चोरी मामला भी है। प्राय: शहर में एक या दो फर्म ने ही माल की आपूर्ति की गई है। वही बिजनौर जनपद में भी हाई लेवल से ये खरीद हुई। अब प्रधान तथा सेक्रेटरी पर भुगतान के लिए भुगतान के लिए दबाव बनाया जा रहा है। जबकि ग्राम प्रधानों को ये यंत्र प्राप्त हुए ही नहीं हैं।

वही ग्राम प्रधान कह रहे हैं कि हाई लेवल पर यंत्र क्रय किये गए हैं तथा अफसर कह रहे हैं कि ग्राम प्रधानों ने यंत्र क्रय किये हैं। अब सवाल यह है कि आखिर यंत्र क्रय किसने किये तथा ये हैं कहां। साथ ही बिजनौर जनपद में ब्लॉक तथा स्टेट लेवल से थर्मामीटर स्केनर 1986 रुपये तथा पल्स ओक्सोमीटर 1700 रुपये के क्रय किये गए। इन पर जीएसटी लगी। ये दोनों 4248 रुपये के पड़े। पूरे शहर में क्रय कर प्रधानों को बिल भेज दिए गए है।

साथ ही प्रधानों से कहा जा रहा है कि भुगतान करो। प्रधान तथा सेक्रेटरी को इसमें कुछ मुनाफा नजर नहीं आ रहा। वे न बिल पर हस्ताक्षर करने को तैयार हैं, न ही भुगतान करने के लिए। सीएम के एक दो जगह डीपीआरओ के खिलाफ कार्रवाई के आदेश देने पर प्रधान तथा सेक्रेटरी और सतर्क हो गए हैं। वही प्रधान तो बच ही रहे हैं अब तो सेक्रेटरी भी उन्हें कॉल कर कह रहे हैं कि बिल पर हस्ताक्षर मत कर देना। हस्ताक्षर किए तो फंस जाओगे। वही अब इस पुरे मामले की जांच की जा रही है।

बरेली में हिंदूवादी नेता डॉ संजय सिंह की हत्या, जांच में जुटी पुलिस

शराब के ठेकों पर 'शरबत' पिला रही पुलिस की ब्लू गैंग, लोगों को दे रही ये सीख

आखिर क्यों सत्येंद्र जैन कहा कि दिल्ली में अगले 10-15 दिनों तक और बढ़ेंगे कोरोना मामले ?