'सेरो-सर्वे' के तहत तैयार हो रही है कोरोना की रिपोर्ट, 'हर्ड इम्युनिटी का होगा खुलासा

May 29 2020 04:07 PM
'सेरो-सर्वे' के तहत तैयार हो रही है कोरोना  की रिपोर्ट, 'हर्ड इम्युनिटी का होगा खुलासा

कोरोना से बचाव के लिए हर संभव कोशिशे की जा रही है. वहीं, भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने कोविड-19 से जुड़े एक राष्ट्रव्यापी सर्वेक्षण के तहत मध्यप्रदेश में इंदौर समेत चार जिलों में कुल 1,700 आम लोगों के नमूने लिए हैं जिनमें इस महामारी के सामान्य लक्षण नहीं थे. वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि इस सर्वेक्षण के परिणामों से चारों जिलों की आबादी में इस महामारी के फैलाव की सटीक जानकारी मिल पाएंगी. इसके साथ ही इस अहम सवाल का भी जवाब मिल सकेगा कि समुदाय पर इस वायरस के हमले के बाद लोगों में 'हर्ड इम्युनिटी' यानी सामूहिक प्रतिरोधक क्षमता विकसित हुई है या नहीं. 

दरअसल, आईसीएमआर द्वारा देश के अलग-अलग हिस्सों में किए जा रहे इस सर्वेक्षण को 'सेरो-सर्वे' नाम दिया गया है. इस सर्वेक्षण में सार्स-सीओवी-2 (वह वायरस जिससे कोविड-19 फैलता है) के प्रसार पर नजर रखने के लिए लोगों के रक्त के सीरम की जांच की जा रही है. मध्यप्रदेश में इस सर्वेक्षण के तहत आईसीएमआर के जबलपुर स्थित राष्ट्रीय जनजाति स्वास्थ्य अनुसंधान संस्थान (एनआईआरटीएच) के द्वारा इंदौर समेत चार जिलों में आम लोगों के रक्त के नमूने जमा किए गए हैं. वहीं इंदौर, देश में कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में शामिल है जहां अब तक इस महामारी के 3,344 मरीज मिल चुके हैं जिनमें से 126 लोगों ने जाएं गवा दी है.

आपको बता दें की एनआईआरटीएच के निदेशक अपरूप दास ने बताया है कि आईसीएमआर के देशव्यापी सेरो-सर्वे के तहत इंदौर में कोविड-19 कंटेनमेंट जोन में ऐसे 500 लोगों के रक्त के नमूने आकस्मिक तौर पर लिए गए हैं जिनमें बुखार और सर्दी-जुकाम सरीखे इस महामारी के आम लक्षण नहीं थे और वे स्वस्थ दिखाई दे रहे थे. उन्होंने आगे बताया कि इस सर्वेक्षण के तहत रक्त के सीरम की जांच के बाद खासतौर पर यह पता चल सकेगा कि अगर संबंधित व्यक्ति सार्स-सीओवी-2 के हमले का शिकार हुए हैं, तो उनके रोग प्रतिरोधक तंत्र ने किस तरह की प्रतिक्रिया दी है और उनके रक्त में इस वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी विकसित हुई हैं या नहीं? जाहिर है कि इससे हर्ड इम्युनिटी के बारे में भी जानकारी मिल सकेगी. उन्होंने बताया कि आईसीएमआर के देशव्यापी 'सेरो-सर्वे' के तहत राज्य में इंदौर के 500 लोगों के नमूनों के साथ ही देवास, उज्जैन और ग्वालियर जिलों में 400-400 लोगों के रक्त के नमूने लिए गए हैं. इन सभी नमूनों को जांच के लिए आईसीएमआर के चेन्नई स्थित एक संस्थान को भेज दिया गया है.

भोपाल के राजभवन में फिर मिले दो कोरोना पॉजिटिव मरीज, 1519 पहुंचा संक्रमितों का आंकड़ा

वाराणसी में दर्दनाक हादसा, गंगा किनारे टिकटॉक वीडियो बना रहे 5 युवक डूबे

पीईबी चार प्रवेश परीक्षाओं की तारीख बढ़ाएगा आगे