नई शर्तों के साथ शूटिंग होगी शुरू, वर्कर की मौत हुई तो मिलेगा इतना मुआवजा

टीवी सीरियल्स के चाहने वालों के लिए है खुशखबरी. क्योंकि जल्द ही उन्हें देखने को मिलेंगे अपने पसंदीदा सीरियल्स के नए एपिसोड्स. इसके साथ ही जून के अंत तक शुरू हो जाएंगी आपके पसंदीदा सीरियल्स की शूटिंग. वो भी नई गाइडलाइन्स के साथ. एकता कपूर के सीरियल्स, भाभीजी घर पर हैं, सोनी टीवी का रियलिटी शो, केबीसी जल्द ही लिमिटेड क्रू के साथ अपनी शूटिंग शुरू करेंगे. वहीं हमने फेडरेशन ऑफ़ वेस्टर्न इंडिया सिने एम्प्लॉय(FWICE) के प्रेसिडेंट बीएन तिवारी से ख़ास बातचीत की. वहीं जिसमें उन्होंने बताया कि उन्होंने दैनिक कर्मचारियों को ध्यान में रखते हुए प्रोडयूसर्स के आगे कुछ शर्तें रखी हैं. तो आइये जानते हैं क्या हैं ये नई शर्तें -

1 - हमने covid 19 के साथ जीने की प्रैक्टिस शुरू कर दी है. वहीं ये वायरस तो लम्बे समय तक चलने वाला है और इसकी कोई वैक्सीन भी नहीं बनी है और काम तो शुरू करना होगा क्योंकि उसके बगैर तो काम नहीं चलेगा. इसीलिए हमने सभी को ट्रेनिंग देनी शुरू कर दी है, मास्क कैसे कैरी करना है. सेनिटाइज़र के साथ कैसे उन्हें रहना है. सेट पर एक इंस्पेक्टर रखेंगे जो इंस्पेक्शन करेगा कि कौन मास्क पहन रहा है और कौन नहीं. जब तक वर्कर्स के नेचर में नहीं आ जाता है तब तक वहां एक इंस्पेक्टर रहेगा.

2 - covid 19 से यदि किसी वर्कर की मौत होती है तो चैनल और प्रोड्यूसर्स उस वर्कर के परिवार को 50 लाख तक का मुआवज़ा दे और उनका मेडिकल खर्चा भी उठाये. एक्सीडेंटल डेथ पर तो प्रोडयूसर्स ने 40 -42 लाख तक दिए हैं लेकिन covid 19 के लिए मिनिमम 50 लाख का कंपनसेशन रखा है, क्योंकि इससे वर्कर्स को कॉन्फिडेंस मिलेगा कि अगर उनको कुछ हो गया तो उनके परिवार को देखने के लिए उनके प्रोडयूसर्स हैं. इसी कॉन्फिडेंस से वो काम करने आएंगे.

3 - शूटिंग के दौरान एक सेट पर करीब 100 लोग या उस से ऊपर होते हैं. परिस्तिथि के साथ समझौता करते हुए हमे 50 प्रतिशत यूनिट के साथ सेट पर काम करना होगा. प्रोडूसर्स से ये भी कन्फर्म करेंगे कि बाकी की 50 प्रतिशत यूनिट शिफ्ट्स में काम करे, ताकि सबका परिवार चले. सिर्फ तीन महीने के लिए 50 साल की आयु के ऊपर के मजदूरों को अभी घर पर रहने के लिए कहा है क्योंकि उन्हें covid 19 से ज़्यादा खतरा है. सिर्फ तीन महीने की और बात है, उसके बाद उम्मीद है कि सब ठीक होने लगेगा. जीतेंगे हम लोग.

4 - जॉब लॉक ना हो, इसपर हमें विचार करना है. एक एम्बुलेंस होनी चाहिए सेट पर इमरजेंसी के लिए जैसे हॉलीवुड में होता है. ये तीन महीने हमारे लिए ट्रेनिंग पीरियड होंगे. उम्मीद है तीन महीने बाद सब ठीक होने लगेगा. जीतेंगे हम लोग.

5 - बहुत जल्द शूटिंग शुरू करने को लेकर और नयी गाइडलाइन्स को लेकर प्रोडयूसर बॉडी, चैनल और सबके साथ वर्चुअल मीटिंग होगी.

'राम' समझ महिला ने अपना बीमार बच्चा रख दिया था पैरो पर

श्रीराम के राज्याभिषेक का ऐलान सुन मंथरा ने कैकेयी से कही यह बात

पांडव और कौरव में से कौन बनेगा हस्तिनापुर का युवराज

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -