भारत में औसतन 5 दिन में दम तोड़ रहा कोरोना मरीज, अमेरिका में यही औसत 14 दिन

नई दिल्ली: पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमण से अमेरिका के बाद सबसे अधिक केस भारत में है। राहत यह है कि विश्व के अन्य देशों की तुलना में भारत में स्थिति बेहतर है। यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया बर्कले द्वारा भारत में 85 हजार मरीजों और लगभग 6 लाख कांटैक्ट ट्रेंसिंग के मामलों की स्टडी में पता चला है कि भारत में अस्पताल में एडमिट होने के 5 दिन बाद मरीजों की मौत हो गई, जबकि अमेरिका में अस्पताल में एडमिट होने के बाद मरीज की मौत होने में 14 दिन का वक़्त लगा।

रिसर्चर्स का कहना है कि दोनों देशों में मौत होने के समय का फ़र्क़ स्वास्थ्य सुविधाओं के चलते है। राहत की बात यह है कि इसके बाद भी 65 वर्ष से अधिक आयु के मरीजों की मौत का आंकड़ा लगातार कम हो रहा है। यह रिसर्च हाल ही साइंस जर्नल में प्रकाशित हुई है। ब्राउन यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के डॉ. आशीष झा कहते हैं कि भारत में पैसे की कमी की वजह से लोग गंभीर स्थिति में जाने पर अस्पताल पहुंचते हैं, जो मृत्यु की वजह है।

वहीं डॉ. लेबनार्ड कहते हैं कि संभव है कि मरीजों को डायबिटीज, ब्लड प्रेशर जैसी समस्या के साथ खराब सेहत इसका बड़ा कारण हो सकता है। साउथ कैरोलिना के मेडिकल यूनिवर्सिटी की संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉक्टर क्रुतिका कुप्पाली बताते हैं कि भारत ऐसा देश है जहां महामारी खतरनाक रूप अख्त्यार कर सकती है। खास तौर पर बुजुर्ग आबादी के इसकी गिरफ्त में आने का अंदेशा था किन्तु ऐसा कुछ नहीं हुआ है भारत में जिस तरह की भीड़ है, उससे हालात और खराब हो सकते हैं, किन्तु अभी कहा जा सकता है कि स्थिति नियंत्रण में है।

अगर चोरी हो गया 'लॉकर' में रखा सोना तो बैंक नहीं देगा एक भी पैसा, जान लें नए नियम

RBI की चेतावनी! मानें ये बातें वरना हो सकता है आपका बैंक अकाउंट खाली

ट्रेन टिकट महंगा करने की तैयारी, यात्रियों को चुकाना पड़ सकता है यूज़र चार्ज

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -