राहुल के NCC वाले बयान पर विवाद

चुनाव प्रचार के लिए कर्नाटक पहुंचे राहुल ने मैसूर के महारानी आर्ट्स कॉलेज फॉर वुमेन की छात्राओं से बातचीत के दौरान एक छात्रा ने राहुल से सवाल पूछा था कि अगर मैं एनसीसी का सी सार्टिफिकेट लेती हूं तो आप मुझे इसके क्या लाभ देंगे. इस पर राहुल गांधी जवाब नहीं दे पाए. उन्होंने कहा कि मैं एनसीसी के बारे में ज्यादा डिटेल में नहीं जानता हूं. इसलिए इस पर ठीक से जवाब नहीं दे पाउंगा.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेशनल कैडेट कॉर्प्स (एनसीसी) पर दिए गए इस बयान को लेकर विवाद पैदा हो गया है. राहुल के इस बयान पर केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने हैरानी जताई है. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि 'इस तरह का बयान' !!!! सच में, वाह. मेरे जैसे हजारों भारतीय, पीएम नरेंद्र मोदी जी भी स्कूल और कॉलेज में एनसीसी कैडेट रह चुके हैं और एनसीसी ने हमें अनुशासन, सौहार्द और 'स्वयं से पहले सेवा' सिखाया. एनसीसी सहना और जीवित रहना है.

राहुल के बयान पर एक एनसीसी कैडेट ने भी जवाब दिया है.कैडेट हार्दिक दहिया ने कहा कि 'एनसीसी देश की दूसरी आर्मी है. हम 15 लाख के करीब हैं. सी सर्टिफिकेट के बाद हमें और अवसरों की जरूरत है जिससे हम भारत को और गौरवान्वित कर सकें. लेकिन उन्हें एनसीसी के बारे में पता होना चाहिए.' विपक्ष राहुल के इस बयान का उपयोग उनकी खिचाई के लिए कर रहा है, हालांकि राहुल ने ईमानदारी से जवाब दे कर मुसीबत मोल ले ली है वे चाहते तो दूसरे नेताओं की तरह सवाल से कन्नी काट सकते थे या गोलमोल बातें घुमा सकते थे. पर वे अब विवादों में घिर गए है. 

राहुल का पीएम पर डेटा वार और पीएमओ का पलटवार

ट्विटर पर भिड़े राहुल गांधी और कानून मंत्री