सुनंदा पुस्कार मर्डर पर बन रही फिल्म से चिंतित है कांग्रेस पार्टी

May 02 2015 09:22 AM
सुनंदा पुस्कार मर्डर पर बन रही फिल्म से चिंतित है कांग्रेस पार्टी

हाई प्रोफाइल सुनंदा पुष्कर मर्डर केस पर कन्नड़ और तमिल फिल्मों के डायरेक्टर एमआर रमेश फिल्म बना रहे हैं, लेकिन इस फिल्म के सब्जेक्ट को लेकर कांग्रेस परेशान हो गई है. रमेश की इस फिल्म का नाम ‘गेम’ है. और माना जा रहा है कि इस फिल्म में कांग्रेस नेता शशि थरूर और उनकी पत्नी सुनंदा के संबंधों को दिखाया जाने वाला है. यह फिल्म अभी तैयार भी नहीं हो पाई है कि कांग्रेस फिल्म की स्टोरी को लेकर चिंतित नजर आने लगी है. कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता खुशबू फिल्म की स्क्रिप्ट के बारे में पता लगा रही हैं.

उन्होंने रमेश से तो सीधा संपर्क नहीं किया, लेकिन फिल्म के प्रचार प्रमुख मोहनम रवि से इस बारे में दो बार जानकारी मांग चुकी है. सूत्रों के अनुसार, खुशबू ने रवि से यह जानना चाहा कि वास्तव में फिल्म की स्टोरी लाइन और सब्जेक्ट क्या है. फिल्म के डायरेक्टर रमेश का कहना है, खुशबू ने सीधे मुझे फोन नहीं किया, लेकिन उन्होंने हमारी फिल्म के प्रचार प्रमुख रवि को दो बार फोन कर फिल्म के बारे में जानकारी मांगी.

मैं साफ कर देना चाहता हूं कि रिलीज से पहले फिल्म के बारे में कोई भी जानकारी किसी को नहीं दी जा सकती. इसके अलावा, मैं अफवाहों पर भी कोई प्रतिक्रिया नहीं देना चाहता. दूसरी ओर, कांग्रेस प्रवक्ता खुशबू ने इन खबरों को बेबुनियाद बताया है कि वह या कांग्रेस इस फिल्म को लेकर परेशान है और इसकी स्टोरी के बारे में जानने की कोशिश कर रही है. उन्होंने कहा कि फिल्म के डायरेक्टर मुफ्त में प्रचार की खातिर खुद इस तरह की अफवाहे फैला रहे हैं. ‘इलू-इलू’ गर्ल के नाम से मशहूर बॉलीवुड एक्ट्रेस मनीषा कोइराला इस फिल्म में लीड रोल कर रही हैं.

फिल्म की शूटिंग फरवरी में शुरू हुई थी, लेकिन मनीषा कोइराला ने शूटिंग पिछले हफ्ते ही शुरू की. इसके बाद नेपाल में भूकंप आ गया और मूल रूप से नेपाल की नागरिक मनीषा राहत कार्यों में शामिल होने के लिए अपने देश चली गईं. फिल्म में अर्जुन सारजा और श्याम भी हैं. फिल्म के डायरेक्टर रमेश ‘गेम’ से पहले राजीव गांधी के हत्यारों पर ‘सायनाइड’ और चंदन तस्कर वीरप्पन पर ‘अट्टहास’ फिल्म बना चुके हैं. इन दोनों ही फिल्मों को साउथ में काफी कामयाबी मिली थी. दोनों ही फिल्में तमिल और कन्नड़, दोनों भाषाओं में बनाई गई थीं.