कांग्रेस 2022 में खेलेगी प्रियंका का ट्रम्प कार्ड, अभी सिर्फ करेंगी प्रचार

कांग्रेस 2022 में खेलेगी प्रियंका का ट्रम्प कार्ड, अभी सिर्फ करेंगी प्रचार

वाराणसी: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के राजनीतिक एंट्री के साथ ही उनके चुनावी संग्राम में उतरने को लेकर लगातार अटकलें लगाई जा रही थीं. वाराणसी लोकसभा सीट पर पीएम मोदी के सामने कांग्रेस ने गुरुवार को अजय राय को प्रत्याशी बनाकर प्रियंका गांधी के चुनाव लड़ने के सारे कयासों पर विराम लगा दिया है. हालांकि प्रियंका के रायबरेली, अमेठी, इलाहाबाद, फूलपुर और वाराणसी लोकसभा सीट पर चुनाव लड़ने की चर्चाएं सियासी गलियारों में चल रही थीं.

ऐसे में माना जा रहा है कि कांग्रेस अपने सबसे बड़े ट्रंप कार्ड प्रियंका गांधी का इस्तेमाल इस चुनावी रण में उतारने के बजाय 2022 में यूपी में बड़े स्तर पर करेगी. 2019 लोकसभा चुनाव के अंतिम और सातवें चरण के नामांकन की प्रक्रिया जारी है. बाकी छह चरणों के नामांकन का दौर संपन्न हो चुका है. ऐसे में प्रियंका गांधी की पांच लोकसभा सीटों में से किसी एक पर चुनाव लड़ने की चर्चाएं की जा रही थीं, उनमें से चार सीटों पर नामांकन की प्रक्रिया संपन्न हो चुकी है. केवल वाराणसी सीट बची है, जहां 29 अप्रैल तक नामांकन दाखिल हो सकते हैं.

इसी बीच वाराणसी लोकसभा सीट पर भी कांग्रेस ने अजय राय के नाम को हरी झंडी दे दी है, जिसके बाद प्रियंका गांधी के लोकसभा चुनाव लड़ने पर सस्पेंस समाप्त हो गया है. फिलहाल प्रियंका इस चुनाव में केवल पार्टी के प्रचार पर ध्यान रखेंगी. बताया जा रहा है कि कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को चुनावी संग्राम में न उतारने के पीछे सोचा समझा प्लान है. दरअसल कांग्रेस उत्तर प्रदेश में 2019 लोकसभा चुनाव से अधिक 2022 के विधान सभा चुनाव को लेकर अपनी सियासी जमीन तैयार कर रही है.

खबरें और भी:-

गोरखपुर सीट: कांग्रेस ने खेला ब्राह्मण कार्ड, रवि किशन के सामने मधुसूदन तिवारी को उतारा

जनसभा स्थल पर अखिलेश-मायावती से पहले पहुंचा सांड, मची भगदड़

आप ने जारी किया घोषणापत्र, कहा - देश के टुकड़े करने चाह रही भाजपा