Pegasus मामले पर कांग्रेस ने खोला मोर्चा, 21 जुलाई को सभी राज्यों में करेगी प्रेस कांफ्रेंस

नई दिल्ली: Pegasus जासूसी मामले में कांग्रेस अब मोदी सरकार को घेरने की तैयारी कर रही है. ‘पेगासस प्रोजेक्ट’ मीडिया रिपोर्ट पर कांग्रेस पार्टी बुधवार को जहां देश के प्रत्येक राज्य में प्रेस वार्ता करेगी, तो वहीं पार्टी की सभी राज्य इकाइयां गुरुवार को पूरे देश के तमाम राजभवन तक विरोध मार्च निकालेगी. वहीं, मंगलवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यदि ये झूठ है तो मानहानि का मुकदमा दायर करो.

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सारे सबूत को आप नकार रहे हो. द हिंदू, इंडियन एक्सप्रेस, हिंदुस्तान टाइम्स का नाम हमने नहीं लिया. राहुल गांधी, तृणमूल कांग्रेस (TMC) के नेताओं का नाम सामने आया है. खड़गे ने कहा कि जासूसी करना और डराना इस सरकार का काम है. वहीं कांग्रेस के लोकसभा सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि ये एक गंभीर मुद्दा है और हमें समान विचारधारा वाले लोगों के बीच बातचीत करनी होगी. ये संवैधानिक अधिकार के विरुद्ध है. वहीं इससे पहले सोमवार को कांग्रेस ने इजरायली स्पाइवेयर पेगासस के माध्यम से राहुल गांधी सहित कई बड़ी हस्तियों की कथित तौर पर जासूसी किए जाने के मामले की स्वतंत्र जांच की मांग करते हुए कहा कि इस मामले को लेकर गृह मंत्री अमित शाह को इस्तीफा देना चाहिए या फिर उन्हें बर्खास्त कर दिया जाना चाहिए.

कांग्रेस ने दावा किया है कि पेगासस का इस्तेमाल करके कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी, कई अन्य विपक्षी नेताओं, मीडिया समूहों और अलग-अलग क्षेत्रों के प्रमुख लोगों की जासूसी कराई गई. इसके साथ ही ये भी कहा गया है कि इस मामले में पीएम मोदी की भूमिका की भी जांच होनी चाहिए. राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर इस मामले को लेकर तंज़ भी कसा. राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि हम जानते हैं कि वो आपके फोन में सबकुछ पढ़ रहे हैं.

अफगानिस्तान के सेना प्रमुख वली मोहम्मद अहमदजई करेंगे भारत का दौरा

क्यों मनाया जाता है विश्व शतरंज दिवस

बेहद दिलचस्प है 'शीला दीक्षित' की लव लाइफ, जो शख्स पसंद ही नहीं था, उसी से हुई लव मैरिज

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -