कांग्रेस ने बजट को नकारा, शाह ने की तारीफ

नई दिल्ली : केंद्र सरकार द्वारा अपने बजट 2016 - 2017 के प्रस्तुतिकरण को लेकर चर्चा की गई है कि केंद्र सरकार के दूसरे बजट में सरकार ने कई तरह के नए सरचार्ज लगाए हैं तो दूसरी ओर आयकर में किसी तरह की स्लैब परिवर्तित नहीं की है। वित्तमंत्री अरूण जेटली के बजट को प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस ने सिरे से खारिज कर दिया। पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने कहा कि वित्तमंत्री द्वारा जिस तरह का बजट प्रस्तुत किया गया है, वह बयानबाजी का एक टुकड़ा बताया गया है।

लोकसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे द्वारा कहा गया है कि बजट के माध्यम से सरकार ने यह दर्शा दिया है कि वे काॅर्पोरेट को लाभ देना चाहती है। कई प्रकार के व्यवसाय और सेवाऐं विशेष टैक्स के दायरे में आ गई हैं। आॅटोमोबाईल इंडस्ट्री भी अधिक कर दर के दायरे में आ गई है। उनका कहना था कि आम आदमी के लिए अधिक कुछ नहीं है। कई पुरानी योजनाऐं ऐसी हैं जिन्हें रिपैकेजिंग कर दिया गया है।

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने बजट को लेकर वित्तमंत्री अरूण जेटली और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार की प्रशंसा की। उनका कहना था कि बजट की मुख्य बिंदुओं की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार के आम बजट से देश के गरीबों में समृद्धि आएगी। राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने कहा कि केंद्र के बजट में गरीबों से किनारा किया गया है। उनका कहना था कि देश में 25 करोड़ लोगों के पास आवास सुविधा नहीं थी। मगर उनके लिए आवास सुविधा प्रदान किए जाने का प्रावधान बजट में नहीं किया गया है। 

कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने कहा, "बजट है जो गांवों, किसानों और गरीबों को समर्पित है।" लालकृष्ण आडवाणी ने इसे अब तक का सबसे बेहतरीन बजट बताया। इनके अलावा पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा, अरुण जेटल की बेटी सोनाली, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, शिवराज सिंह चौहान, मुख़्तार अब्बास नक़वी, वसुंधरा राजे, सुशील कुमार मोदी ने भी बजट की तारीफ की है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -