मोदी सरकार पर शशि थरूर का प्रहार, कहा- संविधान में सबकी आलोचना करने का अधिकार

मोदी सरकार पर शशि थरूर का प्रहार, कहा- संविधान में सबकी आलोचना करने का अधिकार

नई दिल्ली: कांग्रेस के दिग्गज नेता और तिरुअनंतपुरम सीट से सांसद शशि थरूर ने पीएम मोदी के नाम पत्र लिख कर उन पर हमला बोला है। पत्र में उन्होंने कहा कि हमारा लोकतंत्र हमें किसी की आलोचना करने का हक़ देता है। ऐसे में किसी की आलोचना को देशद्रोह के रूप में देखना और ऐसा करने वालों के खिलाफ मामला दर्ज करना अनुचित है।

इतिहासकार रामचंद्र गुहा, फिल्मकार अनुराग कश्यप सहित मॉब लिंचिंग पर केंद्र सरकार को खत लिखने अन्य वालों के खिलाफ मामला दर्ज किए जाने को लेकर कांग्रैस नेता ने अपना पत्र ट्वीट कर प्रतिक्रिया रखी है। उन्होंने पीएम मोदी के एक पुराने भाषण का हवाला देते हुए कहा कि पीएम जी, आपने वर्ष 2016 में अमेरिकी कांग्रेस को संबोधित करते हुए भारत के संविधान को पवित्र पुस्तक बताया था। आपने कहा था कि भारत का संविधान सभी नागरिकों को स्वतंत्रता, अभिव्यक्ति, भाषण और समानता का अधिकार प्रदान करता है।

संविधान की धारा 19(1) का उल्लेख करते हुए शशि थरूर लिखते हैं कि हर किसी को बोलने का अधिकार है और सरकार को उस आज़ादी का सम्मान करना चाहिए। देश के सभी लोग पीएम मोदी से उम्मीद करते हैं कि उनकी सरकार बोलने की स्वतंत्रता का सम्मान करेगी। उन्होंने कहा कि हाल के दिनों में जो लोग सरकार के विरुद्ध बात करते हैं उन्हें देशद्रोही मान लिया जाता है, किन्तु ऐसा करने से लोकतंत्र मजबूत नहीं हो सकता है।

NRC को लेकर बोले अमित शाह, कहा- विपक्षी पार्टियों द्वारा विरोध करना दुर्भाग्यपूर्ण

आर्थिक तंगी से गुजर रहा यूनाइटेड नेशंस, अक्टूबर के अंत तक ख़त्म हो जाएगा पूरा धन - एंतोनियो गुतारेस

हरियाणा मंत्री का विवादित बयान, कहा- जूतों में दाल बांट रही कांग्रेस, हो चुका पार्टी का नाश