पीएम मोदी की सुरक्षा में हुई चूक पर सियासत जारी, अब कांग्रेस ने शेयर किया Video

नई दिल्ली:  पंजाब के फिरोजपुर जिले में बुधवार को पीएम मोदी की सुरक्षा में हुई चूक का मुद्दा सियासी रंग लेता जा रहा है। भाजपा नेता इसे कांग्रेस का षड्यंत्र बता रहे हैं। तो वहीं कांग्रेस नेता पंजाब की चन्नी सरकार के बचाव में उतर आए हैं। इसी बीच कांग्रेस नेता ने एक वीडियो पोस्ट किया है, जिसमें पीएम मोदी के काफिले के पास भाजपा का झंडा लिए हुए एक शख्स नज़र आ रहा है। कांग्रेस नेता ने वीडियो शेयर करते हुए तंज कसते हुए लिखा है कि 'कपड़ों से पहचानों ये कौन लोग हैं?'

 

यूथ कांग्रेस इकाई के अध्यक्ष बीवी श्रीनिवास ने अपने ट्विटर हैंडल से यह वीडियो साझा किया है। जिसमें कुछ लोग पीएम मोदी के काफिले के पास जाकर नरेंद्र मोदी जिंदाबाद और भाजपा जिंदाबाद के नारे लगा रहे हैं, हालांकि लोगों के पास आते ही पीएम मोदी जिस कार में सवार थे वो आगे बढ़ गई। कांग्रेस नेता ने इस वीडियो को साझा करते हुए ट्विटर पर लिखा कि 'कथित हत्या का प्रयास, किसके द्वारा? जरा कपड़ो से पहचानों मोदी जी, ये कौन लोग हैं?'  

बता दें कि गुरुवार को संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) ने भी एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की थी और सुरक्षा में हुई चूक को मनगढ़ंत करार दिया था। साथ ही मोर्चा ने भी कहा था कि भाजपा का ध्वज उठाए लोग ही काफिले के पास गए थे। मोर्चा ने प्रेस विज्ञप्ति में लिखा था कि घटनास्थल के वीडियो से यह साफ़ हो जाता है कि प्रदर्शनकारी किसानों ने पीएम मोदी के काफिले की तरफ जाने का कोई प्रयास नहीं किया। बीजेपी का झंडा उठाए “नरेंद्र मोदी जिंदाबाद” बोलने वाला एक दल ही उस काफिले के पास पहुंचा था। इसलिए पीएम मोदी की जान को खतरा होने की बात बिल्कुल मनगढ़ंत लगती है।

किसने ली थी रास्ता रोकने की जिम्मेदारी :- 

बता दें कि किसान संगठन BKU क्रांतिकारी के अध्यक्ष सुरजीत सिंह फूल ने गुरुवार को प्रधानमंत्री का रास्ता रोकने वालों को धन्यवाद कहा है। उन्होंने कहा कि BKU के अन्य सदस्यों ने भी भाजपा कार्यकर्ताओं को पीएम मोदी की रैली में जाने से रोका था। BKU क्रांतिकारी के नेता सुरजीत सिंह फूल ने वीडियो जारी करते हुए संगठन के कार्यकर्ताओं को धन्यवाद कहा था। इस वीडियो में सुरजीत सिंह कह रहे हैं कि, 'आज गांव रत्ताखेड़ा में BKU क्रांतिकारी के सदस्यों ने मोदी की रैली से महज 10 -11 किमी दूर सड़क जाम करके, हर प्रकार की मुश्किल का सामना करके, भाजपा नेताओं की धमकियां सह कर, रोड जाम करके, भाजपा के लोगों को हमने पानी के बीच से निकलवाया,।इसके लिए सभी कार्यकर्ता बधाई के पात्र हैं।'

अब ऐसे में दो थ्योरी सामने आ रही है, एक तरफ कांग्रेस और पंजाब सरकार कह रही है, कि PM के काफिले के पास भाजपा के कार्यकर्ता ही पहुंचे थे। अगर पहुंचे भी थे, तो उन्हें हटाने की जिम्मेदारी किसकी थी ? वहीं, एक तरफ BKU क्रन्तिकारी खुलेआम पीएम मोदी का रास्ता रोकने की जिम्मेदारी ले रहा है, जबकि दूसरी तरफ कांग्रेस नेताओं का कहना है कि भाजपा कार्यकर्ता ही काफिले के पास पहुंचे थे। साथ ही बी वी श्रीनिवास द्वारा शेयर किया गया वीडियो उस समय का है, जब PM का काफिला चल रहा था, उस जगह का नहीं, जहाँ प्रधानमंत्री 20 मिनट तक फंसे रहे थे।   बहरहाल, फिलहाल यह मुद्दा सुप्रीम कोर्ट में है और आज सुनवाई भी हुई है। ऐसे में जांच पूरी होने के बाद ही कुछ तथ्य सामने आ पाएंगे। 

पंजाब चुनाव: आम आदमी पार्टी ने जारी की उम्मीदवारों की 8वीं सूची, लेकिन CM फेस पर अटका पेंच

बंगाल भाजपा में हो सकती है बगावत, अब पार्टी के सामने आई ये मुसीबत

पीएम मोदी से मुलाकात करेंगे राष्ट्रपति कोविंद, 'पंजाब घटना' पर हो सकता है बड़ा एक्शन

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -