याद रखें कि कांग्रेस ने पिछड़े वर्ग, आदिवासी और दलितों की आवाज उठाई है: कमलनाथ

भोपाल: मध्यप्रदेश में इन दिनों ओबीसी आरक्षण को लेकर बहस छिड़ी हुई है। इस मामले पर अब राजनीति भी देखने के लिए मिल रही है। अब इसपर कांग्रेस भी जवाबी मोड में आ गई है। जी दरअसल हाल ही में इसे लेकर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ (Kamal Nath) का बड़ा बयान सामने आया है। जी दरअसल कमलनाथ ने बयान देते हुए कहा- 'परिसीमन, रोटेशन और ओबीसी आरक्षण के बिना पंचायत चुनाव हो रहे हैं। विवेक तन्खा ने रोटेशन और परिसीमन पर याचिका लगाई थी, ओबीसी पर नहीं। सुप्रीम कोर्ट में सरकारी वकीलों और चुनाव आयोग के वकीलों ने ओबीसी आरक्षण रद्द होने का विरोध तक नहीं किया।'

इसी के साथ आगे उन्होंने कहा, 'सुप्रीम कोर्ट में अवकाश चल रहा है। ऐसे में सरकार अगर वाकई ओबीसी के आरक्षण के साथ चुनाव कराना चाहती है, तो उसे तत्काल सुप्रीम कोर्ट में स्पेशल लीव पिटीशन लगानी चाहिए। इस काम में कांग्रेस पार्टी सरकार का सहयोग देगी, कांग्रेस ओबीसी आरक्षण के साथ चुनाव चाहती है।' वहीं उन्होंने एक पोस्ट करते हुए लिखा है- 'बीजेपी ने झूठा प्रचार शुरू किया कि कांग्रेस के कारण आरक्षण रद्द हुआ, जबकि जबलपुर हाईकोर्ट में चार बार यह मामला आया पर सरकार के वकील नहीं उपस्थित हुये। मैं प्रदेश की जनता से अपील करता हूँ कि वो याद रखें कि पिछड़े वर्ग, आदिवासी और दलितों की आवाज़ कांग्रेस ने ही उठाई है।'

आप सभी को बता दें कि, मध्य प्रदेश में पंचायत चुनाव ओबीसी आरक्षण की राजनीति के कारण उलझते दिख रहे हैं, बीते रविवार को भी इस मुद्दे को लेकर देर शाम कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के भोपाल स्थित निवास पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक हुई थी। इस बैठक में राजनीतिक प्रस्ताव पारित किया गया था।

तेलंगाना: 'गे' कपल ने धूमधाम से रचाई शादी, माता-पिता ने दिया आशीर्वाद

OMG! सीवर ने घुसा 6 फ़ीट लम्बा अजगर, इस तरह हुआ रेस्क्यू

अब आप भी पूरे वर्ष मुफ्त में उठा सकते है OTT का लुत्फ! जानिए कैसे

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -