कांग्रेस में हो सकता है नेतृत्व परिवर्तन, राहुल बाबा को मिलेगी पार्टी की कमान

नई दिल्ली : लंबे समय से कांग्रेस में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर चर्चा की जा रही थी। कांग्रेस के पदाधिकारी पहले ही इस तरह की मांग कर चुके थे कि अब बीमारी और वृद्धावस्था से थकी हुई सोनिया गांधी को आराम देने की जरूरत है। ऐसे में यह बात सामने आई है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी अगले वर्ष कांग्रेस का नेतृत्व संभाल सकेंगे। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी उत्तरप्रदेश और पंजाब विधानसभा चुनाव के बाद अपने पद से इस्तीफा दे सकती है, सोनिया गांधी अपने गिरते स्वास्थ्य और पार्टी को सक्रियतौर पर चलाने को लेकर महत्वपूर्ण निर्णय कर सकती हैं।

एक महत्वपूर्ण और प्रमुख समाचार पत्र में प्रकाशित जानकारी के अनुसार कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी तो पहले भी इस्तीफा देना चाहती थीं मगर पार्टी के पुराने नेताओं का प्रयास था कि अगले वर्ष दो प्रमुख राज्यों में होने वाले निर्वाचन तक वे पार्टी अध्यक्ष के पद पर काबिज रहें। गौरतलब है कि नए वर्ष की शुरूआत के ही साथ पंजाब और उत्तरप्रदेश में चुनावी प्रक्रिया अपनाई जाएगी और उत्तरप्रदेश के ही साथ कांग्रेस के लिए पंजाब चुनाव अहम होगा क्योंकि भाजपा अकाली दल गठबंधन के कमजोर होने पर कांग्रेस को एक विकल्प के तौर पर देखा जा रहा है।

यदि कांग्रेस पंजाब में वापसी करती है तो यह उसके लिए संजीवनी की तरह होगा। हालांकि आप और नवजोतसिंह सिद्धू के मोर्चे के चुनावी मैदान में आ जाने से कांग्रेस को कुछ मुश्किल हो सकती है। भारत के पूर्वप्रधानमंत्री मनमोहन सिंह व रक्षामंत्री एके एंटनी द्वारा कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की उपस्थिति में कांग्रेस के नेतृत्व परिवर्तन की बात को स्वीकार करते हुए कहा है कि अब वक्त है कि राहुल को पार्टी की बांगडोर दे दी जाए।

सभी नेताओं द्वारा इस बात को लेकर समर्थन कर दिया गया है। नेताओं व कार्यसमिति द्वारा इस मामले में सिफारिश कर दी गई है। कांग्रेस द्वारा चुनाव आयोग को पत्र लिखकर पार्टी में होने वाली निर्वाचन प्रक्रिया के लिए एक वर्ष का समय मांगा है। इस मामले में राहुल बाबा का कहना है कि पार्टी के अध्यक्ष पद को लेकर तो कमेटी ही निर्णय लेगी।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -