किसान आंदोलन की आंच पर सिक रहीं सियसी रोटियां, पंजाब चुनाव की तैयारियों में जुटे कांग्रेस-आप

By Bhavesh Bakshi
Dec 01 2020 01:39 PM
किसान आंदोलन की आंच पर सिक रहीं सियसी रोटियां, पंजाब चुनाव की तैयारियों में जुटे कांग्रेस-आप

नई दिल्ली: केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों के विरोध में किसानों द्वारा जारी आंदोलन में सियासी दलों ले प्रवेश पर रोक के बाद भी उस आंदोलन के सहारे राजनीतिक दल पंजाब विधान सभा चुनाव की तैयारियों में लग गए हैं। पंजाब की मुख्य विपक्षी पार्टी आम आदमी पार्टी (आप) और शिरोमणि अकाली दल (शिअद) और कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व के साथ दिल्ली प्रदेश इकाई भी इस काम में लगी हुईं है।

उल्लेखनीय है कि लगभग एक साल बाद 2022 की शुरुआत में ही पंजाब विधान सभा चुनाव प्रस्तावित हैं और आने वाले चुनाव के लिए दिल्ली की बॉर्डर पर पंजाब से आए बड़ी तादाद में किसानों ने सियासी दलों को अपना जनाधार मजबूत करने का मौका दिया है। वहीं आप के दिल्ली में सत्तासीन होने से थोड़ा लाभ मिला है। पार्टी, सरकार किसी अवसर को हाथ से जानें नहीं देना चाहती है, वह किसानों की हमदर्द दिखने के लिए आगे आ रहे हैं जिससे पंजाब में उसकी सियासी जमीन मजबूत होगी।

दरअसल इसकी शुरुआत दिल्ली पुलिस की सरकार की ओर से उस मांग को ठुकराने की हुई, जिसमें स्टेडियम को अस्थाई जेल के रूप में मांगा गया था। इसके बाद से दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल से लेकर आप का हर छोटा-बड़ा नेता सोशल मीडिया पर इस समय सबसे अधिक सक्रिय किसान आंदोलन के मसले पर ही दिख रहा है।

बिहार में बढ़ती अपराध की वारदातों पर तेजस्वी का नीतीश से सवाल - 'चुप क्यों हैं महाराज'

ड्रोन हमले से हुई ईरानी रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स कमांडर की मौत

मनोज तिवारी ने राहुल गाँधी को बताया विश्व का सबसे कंफ्यूज नेता, कहा- उन्हें कृषि कानून की कोई जानकारी नहीं