महाराष्ट्र में लग सकता है 8 या 14 दिनों का कंप्लीट लॉकडाउन, CM ने कहा, ‘और कोई विकल्प नहीं’

Apr 11 2021 09:45 AM
महाराष्ट्र में लग सकता है 8 या 14 दिनों का कंप्लीट लॉकडाउन, CM ने कहा, ‘और कोई विकल्प नहीं’

मुंबई: प्रतिबंध और छूट एक साथ संभव नहीं। ऐसा कहना है मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का। उन्होंने कहा है कि, 'कोरोना की चेन अगर तोड़नी है तो लॉकडाउन का कोई विकल्प नहीं है।' अब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का कहना है कि महाराष्ट्र में कंप्लीट लॉकडाउन लगाया जाएगा। खबरों के अनुसार लॉकडाउन या तो 8 दिनों का हो सकता है या फिर 14 दिनों का। वहीँ बीते शनिवार को हुई बैठक में लॉकडाउन के संबंध पर कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया और निर्णय दो दिनों के लिए टाल दिया गया है।

आपको बता दें कि बीते शनिवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सर्वदलीय बैठक बुलाई थी। इस बैठक के दौरान सभी दलों के नेताओं की राय ली गई। इसी बीच विशेषज्ञों की भी राय ली गई। यह बैठक शाम 5 बजे से ढाई घंटे तक चली और बैठक के बाद निर्णय हुआ कि मुख्यमंत्री सबकी राय पर अगले दो दिनों में विचार करेंगे और महाराष्ट्र में कंप्लीट लॉकडाउन लगाना है या नहीं, इसपर इन दो दिनों में निर्णय लिया जाएगा। आज यानी रविवार को राज्य के टास्क फोर्स के साथ बैठक की जाएगी। बीते शनिवार को हुई बैठक के दौरान मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा, 'जनता को थोड़ा कड़वा डोज देना जरूरी है।

कोरोना को कंट्रोल करना है तो अगले कुछ दिनों के लिए महाराष्ट्र में कड़क लॉकडाउन लगाना जरूरी है इसके बाद धीरे-धीरे एक-एक चीज खोली जानी चाहिए।' इसके अलावा मुख्यमंत्री ने यह भी कहा है कि, 'लॉकडाउन का विकल्प इसलिए जरूरी है क्योंकि स्वास्थ्य सुविधाओं पर अत्यधिक दबाव आ रहा है। ऐसे में दुनिया की मिसालों को भी देखते हुए लॉकडाउन ही एकमात्र उपाय दिखाई दे रहा है। कोरोना का जो नया स्ट्रेन है उसको देखते हुए वैक्सीन भी सुरक्षा की जमानत नहीं है। वैक्सीन के दोनों डोज लेने के बाद भी लोगों को कोरोना हो रहा है। रेमडेसिविर इंजेक्शन की कमी है, वेंटिलेटर्स और ऑक्सीजन वाले बेड्स की कमी है। राज्य में अनेक अस्पताल फुल हो चुके हैं। इस वजह से लॉकडाउन ही एक विकल्प दिखाई दे रहा है।'

बैठक में उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने कहा कि 'जो लोग दिहाड़ी मजदूर हैं और जिन्हें रोजमर्रे की जरूरतों को पूरा करने के लिए रोज काम करना जरूरी है, जो लोग छोटे व्यापारी हैं ऐसे आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को आर्थिक सहायता किस तरह से दी जाए, इस पर वे एक पूरा विस्तृत प्लान सोमवार तक तैयार करेंगे।'

कहीं पैदल तो कहीं ट्रैन से निकले प्रवासी मजदुर, सता रहा लॉकडाउन का डर

क्या है आज का पंचांग, यहाँ जानिए शुभ-अशुभ मुहूर्त

राजस्थान में 7000 से अधिक पेट्रोल पंप हड़ताल पर, आम जनता की मुश्किलें बढ़ीं