कामनवेल्थ पार्लियामेंट्री सम्मेलन आज से, इस कार्यप्रणाली में सुधार पर होगी चर्चा

कामनवेल्थ पार्लियामेंट्री सम्मेलन आज से, इस कार्यप्रणाली में सुधार पर होगी चर्चा

 राजधानी लखनऊ में कामनवेल्थ पार्लियामेंट्री एसोसिएशन इंडिया रीजन का सम्मेलन में पहली बार बुधवार से आयोजित किया जा रहा है। इसके अलावा तीन दिनों तक चलने वाले इस सम्मेलन में विधायिका के कामकाज में सुधार पर चर्चा की जा रही है। इसमें मौजूद होने के लिए लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला राजधानी पहुंचे है । वही उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने लखनऊ एयरपोर्ट पर पुष्‍प माला पहनाकर उनका स्वागत किया जा सकता है । विधानसभा अध्यक्ष हृदयनारायण दीक्षित ने बताया कि पहले दिन कार्यकारिणी समिति की बैठक है, जिसमें लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला अध्यक्षता करेंगे ।

 दूसरे दिन 16 जनवरी को सुबह 11 बजे लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला विधान सभा मंडप में सम्मेलन का उद्घाटन कर सकता है। इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत मंत्रिमंडल के सदस्य भी मौजूद रह सकते है । हृदयनारायण दीक्षित ने कहा कि इस सम्मेलन में सत्ता और विपक्ष के भेद नहीं हो| इसके साथ ही सदन में नेता सदन को भी बोलने का मौका मिलेगा। यह उत्तर प्रदेश के लिए सौभग्य का विषय है यह सम्मेलन यहां आयोजित किया जा रहा है। वही  विधानमंडल के विधानसभा मंडप में होने वाले सम्मेलन में भारत की सभी विधानसभा व विधानपरिषद के अध्यक्ष व सभापति शामिल हो रहे हैं। लखनऊ में आयोजित होने वाले राष्ट्रमंडल संसदीय संघ, भारत प्रक्षेत्र का 7वां सम्मेलन है। इससे पहले 6वां सम्मेलन फरवरी, 2018 में बिहार में आयोजित किया गया था। 

इसके अलावा राष्ट्रमंडल संसदीय संघ की स्थापना वर्ष 1911 में एम्पायर पार्लियामेंट्री एसोसिएशन के रूप में की गई थी। वही इसका उद्देश्य राष्ट्रमंडल संसदों के सदस्यों के बीच संसदीय विचारों और सूचनाओं का आदान-प्रदान करना और लोकतंत्र की उन्नति को बढ़ावा देना है। वही वर्ष 1948 इसका नाम बदलकर  कामनवेल्थ पार्लियामेंट्री एसोसिएशन कर दिया गया है । साथ ही प्रमुख सचिव विधानसभा प्रदीप दुबे ने दोनों सदनों (विधानसभा व विधान परिषद) के सदस्यों को पत्र लिखकर 16 जनवरी को उद्घाटन समारोह में सुबह 11 बजे से लेकर दोपहर एक बजे तक उपस्थित रहने का आग्रह किया है। दुबे ने बताया कि सम्मेलन में राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश भी भाग लेंगे। विधान सभाओं के अध्यक्ष व विधान परिषदों के सभापति भी भाग लेंगे। सम्मेलन का समापन राज्यपाल आनंदीबेन पटेल कर सकता है ।

इस शख्स ने बताया की क्यों AAP में जा रहे कांग्रेस के नेता

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020: आरोप लगाने वाले विधायकों को AAP का पलट जवाब

सरकार का बड़ा एलान, कश्मीर से हट सकता है एम फार्म